Skip to main content

Raksha Bandhan | रक्षा बंधन की रोचक बातें और इसके पीछे का इतिहास ।

 दोस्तों पूरे देश में उत्साह के साथ मनाया जाने वाला यह रक्षाबंधन का त्यौहार ना केवल भाई-बहन के प्रेम का प्रतीक है अपितु परिवारों को जोड़े रखने का एक अच्छा माध्यम है तो पुरातन समय से बनाए जाने वाले इस रक्षाबंधन त्यौहार के पीछे क्या कारण है आज हम यह सब जानेंगे रक्षाबंधन कब और क्यों आरंभ हुआ इस संबंध में कुछ कथाएं हैं !

सबसे पहले उस कथा को जानेंगे जो महाभारत काल से जुड़ी हुई है -

महाभारत में भगवान श्री कृष्ण को श्रुति देवी नाम की एक चाची थी उसने शिशुपाल नामक एक बच्चे को जन्म दिया था बड़ों से यह पता चलता है कि जिसकी स्पर्श से शिशुपाल ठीक होगा उसी के स्पर्श से भोपाल की मृत्यु भी होगी 1 दिन श्रीकृष्ण ने चाची के घर शिशुपाल से मिलने आए थे और जैसे ही श्रुति देवी ने अपने बच्चे को श्री कृष्ण के हाथ में दिया एकदम सुंदर हो गया तब श्रुति देवी रहती अपने बालक में हुए बदलाव को देख कर बहुत खुशी हुई पर उसकी मृत्यु श्री कृष्ण के हाथों से होगी इस विचार से उनका मन विचलित हो गया भगवान श्रीकृष्ण से प्रार्थना करने लगी भले ही शिशुपाल कितनी भी गलती करते पर उसे भगवान श्री कृष्ण के हाथों से सजा नहीं मिलनी चाहिए भगवान श्री कृष्ण अपनी चाची को वचन दिया कि मैं उसकी गलती माफ कर दूंगा परंतु उसने अगर 100 बार से अधिक गलती करी तो मैं उसकी गलती माफ नहीं करूंगा शिशुपाल बड़ा होकर चिड़ी नामक राज्य का राजा बना और वह बहुत ही क्रूर राजा बन गया था और व शिशुपाल श्री कृष्ण का रिश्तेदार भी था अपने क्रूरता के चलते शिशुपाल अपने राज्य को बहुत परेशान करता था और बार-बार भगवान श्री कृष्ण का अपमान किया करता था परंतु श्री कृष्ण से गलतियों को माफ कर दिया करते हैं लेकिन एक बार शिशुपाल ने अपने क्रूरता की हद पार कर दी और भरे दरबार में श्री कृष्ण का अपमान कर दिया और कृष्ण की बहुत निंदा की और शिशुपाल ने इस गलती के साथ ही अपनी 100 गलतियों का आंकड़ा भी पार कर दिया था  !

भगवान श्री कृष्ण ने उसकी गलती को माफ नहीं की और अपने सुदर्शन चक्र से शिशुपाल पर प्रहार कर दिया भगवान श्री कृष्ण के अनेक चुनौती देने के बाद भी शिशुपाल ने अपने गुण नहीं बदले ना ही अपनी गलतियों को सुधारा इसके कारण अंत में शिशुपाल को अपने प्राण त्यागने पड़े भगवान श्री कृष्ण जब क्रोध में शिशुपाल पर सुदर्शन चक्र से प्रहार कर रहे थे तब उनकी अंगुली में भी चोट लग गई थी जिसमें से खून बहने लगा था यह दृश्य देखकर सभी लोग भगवान श्री कृष्ण के अंगुली पर कपड़े बांटने के लिए इधर-उधर भागने लगे और कपड़ा ढूंढने लगे परंतु वहां पर खड़े द्रोपति ने बिना कुछ सोचे समझे बिना समय गवाएं अपने साड़ी के पल्लू को फाड़ कर भगवान श्री कृष्ण के अंगुलियों में बांधने लगे जिससे श्री कृष्ण के अंगुली से बहता हुआ खून रुक गया यह दृश्य देखकर भगवान श्री कृष्ण द्रोपति से कहते हैं कि शुक्रिया प्यारी बहना तुमने मेरे दुख में साथ दिया है तो मैं भी तुम्हारे दुख में काम आऊंगा यह कह कर भगवान श्रीकृष्ण ने द्रोपति को उसके रक्षा करने का वचन दिया और इस घटना से अच्छा बंधन का पावन पर्व शुरू हुआ था और जब कौरवों ने भरी सभा में द्रोपति की साड़ी खींचकर उस का चीर हरण करके तथा द्रौपदी का अपमान करने का प्रयास किया था तो भगवान श्री कृष्ण ने द्रोपति का सम्मान बचा कर अपना वचन पूरा किया था इस घटना के बाद द्वापर युग से ही बहन भाइयों की कलाई पर रक्षाबंधन के पर्व पर राखी बांधती हैं और बदले में भाई अपनी बहन की रक्षा करने का वचन देते आ रहे हैं !

 रक्षाबंधन त्यौहार मनाया जाने के पीछे एक और प्राचीन कहानी है इस कहानी के अनुसार दैत्यों के राजा बलि ने 110 यज्ञ पूर्ण कर लिए थे जिस कारण देवताओं का डर बढ़ गया कि कहीं राजा बलि अपनी शक्ति से स्वर्ग लोक पर भी अधिकार ना कर ले इसलिए सारे देवता भगवान विष्णु के समक्ष रक्षा के लिए पहुंचे तब भगवान विष्णु ने वामन अवतार लिया और राजा बलि से भिक्षा मांगा निशा में राजा बलि ने तीन पग भूमि देने का निश्चय किया तब भगवान विष्णु ने एक पग में स्वर्ग दूसरे पग में पृथ्वी जब राजा बलि ने भगवान वामन का तीसरा पग आगे बढ़ते हुए देखा तो वह परेशान हो गया और समझ नहीं पा रहा था क्या करें फिर बली ने अपना सिर वामन देव की चरणों में लक्खा और कहा कि आप तीसरा पग यहां रख दे इस प्रकार से राजा बलि से स्वर्ग तथा पृथ्वी पर निवास करने का अधिकार छीन लिया गया और बली रसातल में चला गया तब बाली ने अपनी भक्ति से भगवान को हर समय अपने सामने रहने का वचन लिया और भगवान विष्णु को राजा बलि का दरबारी बनना पड़ा जिस कारण देवी लक्ष्मी दुविधा में पड़ गई वह विष्णु जी को रसातल से वापस लाना चाहती थी तब उन्हें नारद से इस समस्या का समाधान मिला लक्ष्मी जी ने राजा बलि के पास जाकर राखी बांधे और उसे अपना भाई बना लिया और उपहार में देवी लक्ष्मी ने अपने पति विष्णु जी को मांगा यह सावन मास का पूर्णिमा का दिन था और तब से रक्षाबंधन मनाया जाता है !

 रक्षाबंधन क्यों मनाया जाता है इससे संबंधित कथा भविष्य पुराण में भी मिलती है इस कथा अनुसार प्राचीन समय में 12 वर्षों तक देवता और असुरों के मध्य युद्ध होता रहा इस युद्ध में देवताओं की हार हो रही थी तब इंद्रदेव गुरु बृहस्पति के पास पहुंचे जहां इंद्र की पत्नी सचि भी उपस्थित थी इंद्र को उदास देखकर इंद्राणी ने कहा स्वामी कल ब्राह्मण शुक्ल पूर्णिमा है मैं विधि विधान से एक रक्षा सूत्र आपके लिए तैयार करूंगी आप उसे स्वस्तिवाचन पूर्वक ब्राह्मणों से बंधवा लीजिएगा आप निश्चय ही विजई होंगे अगले दिन इंद्राणी के कहे अनुसार इंद्र ने वह रक्षा सूत्र स्वस्तिवाचन पूर्ण बृहस्पति से बनवाया इस प्रकार रक्षा सूत्र से इंद्र तथा सभी देवताओं की रक्षा हुई !

Comments

Popular posts from this blog

अपने जन्माष्टमी समारोह को थोड़ा खास बनाएं

 जन्माष्टमी का उत्सव भगवान कृष्ण को उनकी संपूर्णता में आमंत्रित करने के लिए समर्पित है। घटना की प्रशंसा करने के हर किसी के अपने विशेष तरीके होते हैं, वैसे भी, कुछ समारोह ऐसे होते हैं जो सामान्य होते हैं। निम्नलिखित कुछ ऐसे रिवाज़ हैं जिन्हें आप जश्न मनाने और उत्सव में कुछ और हिस्सा लेने के लिए कर सकते हैं।  दिन की छुट्टी पर उपवास शुरू करें -  उपवास जन्माष्टमी अवसर के सबसे मौलिक और सर्वव्यापी टुकड़ों में से एक है। आप आम तौर पर उत्सव की अधिक प्रशंसा करने के लिए घटना पर एक त्वरित नोटिस कर सकते हैं।  गुच्छा प्रतिबिंब धुनों और सेरेनेड्स में भाग लें -    गायन कीर्तन, या प्रतिबद्धता, महिमा, या प्रशंसा की धुन, जन्माष्टमी उत्सव का एक और महत्वपूर्ण घटक है। इस तथ्य के अलावा कि यह मूर्खता और प्रतिबिंब है, यह वास्तव में एक उत्सव के एक टुकड़े की तरह महसूस करने का कारण बनता है। इसी तरह, कीर्तन व्यक्तियों को एकजुट करते हैं।  अभयारण्य के लिए पुष्पांजलि और विभिन्न डिजाइनों की योजना बनाएं -    इस अवसर के सख्त और खुश घटकों में भाग लेने के लिए अपने घर या अपने पड़ोसी में अभयारण्य को सजाने में सहायता कर

Aate ke laddu banane ke tarike | आटे के लडडू के बारे में कुछ खास तरीके

Aate ke laddu banane ke tarike | आटे के लडडू के बारे में कुछ खास तरीके   आज हम आप को ठण्ड के मोसम में खाने वाले आटे के लडडू के बारे में कुछ खास बातें बताएंगे और उन को बनाने का तरीका भी आइए जानते हैं ।             इस ठण्ड के मौसम में बहुत तरह के लडडू बनाये जाते हैं जैसे चावल के आटे के लडडू और गैहू के आटे के लडडू और गौद के लडडू  और भी विभिन्न प्रकार के पकवान त्योहारों पर हमारे भारत में बनाए जाते हैं । लेकिन मैं आज आपके एक एसे लडडू बनाने के बारे में बताये गै जो आप ने कभी नहीं बनाये होगे यह लडडू ठण्ड के मोसम में हमारे लिए बहुत गुणकारी होते हैं कयोकि इन लडडू को बनाने में कुछ खास चीजें लगतीं है जो हमारे शरीर के लिए बहुत गुणकारी होती है कयोकि अकेले आटे के लडडू खाने से हमारे शरीर को कोई ताकत नही मिलती वो तो हम ठण्ड में खाने के लिए बना लेते हैं । आज में जो लडडू बनाने के बारे में बताऊँ गी वह हमारे लिए एक दवाई काम करते हैं ।             यह लडडू बनाने के लिए हम काले चननो का आटा लेगें यह आटा काले चननो को साबित पीस कल लेगें हमे बेसन नहीं लेना हमें साबुत काले चननो को घर पर पीस लेना है या फिर बाहर किस

सफेद दाग क्या होता है - सफेद दाग होने के कारण ,सफेद दाग का आयुर्वेदिक इलाज...

सफेद दाग क्या होता है - दोस्तों! सफेद दाग जन्म के बाद आने वाला स्किन प्रॉब्लम है जिसमें हमारी स्किन में जो कलर देने वाली पेशियां होती हैं वह मर जाती हैं हमारे स्कीम पर मिल्की वाइट या दूध जैसे सफेद दाग आने लगते हैं और हमारे स्क्रीन के लेयर में जो मेलानोसाइट्स नाम की जो पेशी होती है जो आपकी स्किन को कलर देती है यह मेलेलिन साइड जो रहती है वह मेलेलिन नाम की पिगमेंट बनाती है यह वेल्डिंग पिगमेंट की वजह से ही हमारे स्कूल में जो भी कलर है वह आता है इस मेलेलिन पिगमेंट की आपकी स्किन में होने वाले मात्रा के अनुसार है आपका स्क्रीन का जो कलर है वह निर्धारित होता है मेलेनिन पिगमेंट जब स्किन में ज्यादा होता है तब स्किन का कलर डार्क ब्राउन या सांवली दिखती है और अगर यह मेलेलिन पिगमेंट कम होता है तो आप की स्कीन गोरी या फिर दिखती है । सफेद दाग के शुरुआती लक्षण -  दोस्तों! इस रोग में रोगी को किसी तरह की दिक्कत तो नहीं होती है मगर सफेद दाग चेहरे और हाथ पैर पर दिखाई देते हैं जिसके कारण रोगी कुरुप नजर आता है इस कारण रोगी तनाव हीन भावना और डिप्रेशन में रहता है रोगी की स्क्रीन पर छोटे-छोटे सफेद धब्बे दिखाई देत

lampi virus से अपनी गाय को बचाने के लिए निम्न प्रकार की सावधानियां रखें आइए जानते हैं कैसे...

lampi virus   आज पूरे भारतवर्ष में हमारी गाय माता पर हावी है जिसकी वजह से हमारी गायों को अत्यधिक नुकसान हो रहा है और हमारे किसान कुछ नहीं कर पा रहे हैं लेकिन आज हम जानेंगे लंबी वायरस से अपने गायों को बचाने के लिए कुछ बेहतरीन सावधानियां जिनसे कुछ चांस कम हो जाएंगे lampi virus होने के आइए जानते हैं -- साफ सफाई का रखें ध्यान - अगर गायों को रखने वाला जगह साफ सुथरा नहीं है तो वहां से गायों को इन्फक्शन होने की संभावना बढ़ जाती है इसलिए कोशिश करेगी गायों को रखने वाले स्थान यानी कि तबेला साफ सुथरा रखें और अगर वहां पर कीचड़ हमेशा बना रहता है तो उस कीचड़ में मिट्टी का तेल अवश्य डालें या उसकी जड़ में मिट्टी के तेल का छिड़काव करें इससे कीचड़ में किसी भी तरह की बैक्टीरिया और वायरस नहीं बनेंगे ! खानपान हरियाली - समय के साथ हर जियो अपनी धीरे-धीरे पोलूशन बड़ी दुनिया में अपनी पाचन क्रिया को होता जा रहा है खेतों में अच्छी प्रकार हरियाली लाने के लिए यूरिया डाई कार्बोनेटेड क्या दिखा दो का उपयोग किया जा रहा है जो हमारे सेहत के लिए कहीं न कहीं अच्छा नहीं है यहां हम बात उन किसानों की कर रहे हैं जो कई लोग बा

एलर्जी खांसी की आयुर्वेदिक दवा

 एलर्जी क्या होता है -  दोस्तों सामान्य था जो एलर्जी होती है ऐसा होता है कि हमारे शरीर में कई तरह के बैक्टीरिया और वायरस प्रवेश करते हैं रोजमर्रा में जिंदगी में जो यह वायरस और बैक्टीरिया होते हैं इनको हमारी बॉडी की इम्यून सिस्टम पहचानती है और इन के विरुद्ध आक्रमण करती है और किसके द्वारा वह वायरस और बैक्टीरिया को खत्म कर देती है जिससे कि शरीर पर विपरीत प्रभाव ना पड़े और शरीर को नुकसान नहीं पहुंचे लेकिन गड़बड़ वहां हो जाती है जहां शरीर की इम्यून सिस्टम कमजोर होती है ऐसी कुछ चीजें रहती हैं जो हमारे शरीर की दोस्त रहती हैं लेकिन वह दोस्त नहीं दुश्मन समझ लेती है जैसे कि हवा में उड़ के नाक के द्वारा अंदर जाने वाले एनिमल डेंजेल होते हैं कई अलग-अलग प्राणी होते हैं जैसे कि डॉग हुआ गाय हुई इस तरह से इनकी शरीर से बारीक- बारीक रेशे निकलते हैं जो सूखकर नाक के द्वारा अंदर जाते हैं सामान्यतः तो यह सभी को जाते हैं लेकिन कुछ लोगों में यह शरीर की जो इम्यून सिस्टम है उससे रिएक्ट करना शुरू कर देती है और वह रिएक्शन होता है उसी हम एलर्जी कहते हैं और सामान्यतः यह जो एलर्जी है वह 3- 4 तरह की एलर्जी होती है

तनाव से छुटकारा कैसे प्राप्त करें | तनाव मुक्त जीवन जीने के कुछ सरल उपाय

 तनाव से छुटकारा कैसे प्राप्त करें | तनाव मुक्त जीवन जीने के कुछ सरल उपाय Oknews आजकल की भाग दौड़ भरी जिंदगी में तनाव हमारे जीवन का एक हिस्सा बन गया है और हर कोई तनाव मुक्त जीवन जीने की उपाय ढूंढ रहा है आपकी जानकारी के लिए बता दूं मैं कि तनाव को हमने अपने जीवन का हिस्सा बना लिया है हम हमेशा एक समान जिंदगी जीते हैं बस हमारे मन के विचार अलग रहते हैं और जीवन जीने का संदर्भ अलग होता है अगर हम मन में सोच कुछ और रहे हैं और कर कुछ और रहे हैं तो यह तनाव को जन्म देता है और हम अपने कार्य को अच्छी तरीके से नहीं कर पाते और जो हमने सोच रखा है मन में उस में भी सफलता न मिलने के कारण तनाव बढ़ने लगता है । बात करें कुछ जीवन के उन पलों की जिस पल में इंसान किसी व्यक्ति से प्यार करता है उस दौरान भी वह उसी प्रकार की जिंदगी जीता है बस उसके मन के संदर्भ उस समय अलग होते हैं जिसकी वजह से वह अपने जीवन में संतुष्ट और खुश हो जाता है । अपने जीवन में हो रहे हर उतार-चढ़ाव को समझें अपने आप को समझे कि आप अपनी मन मुताबिक कार्य कर रहे हो हैं या नहीं आप कुछ ऐसा काम सुन सकते हैं जिससे मानव जगत का कुछ भला भी हो और आपके पास

घुटने का दर्द क्यों होता है - घुटने का दर्द कौन-कौन सी बीमारियों में ज्यादा होता है ! | घुटने के दर्द का सामाधान ...

  घुटने का दर्द क्यों होता है - दोस्तों यहां हम जानेंगे कि घुटने का दर्द क्यों होता है, दोस्तों या बड़ा प्रश्न है हमारा घुटना जो कि 3 हड्डियों से मिलकर बना होता है ऊपर वाली हड्डी जिसे थाई बोन बोलते हैं और नीचे वाली हड्डी जिसे लेग बोन बोलते हैं और आगे की तरफ हड्डी जिसे पटेला बोन बोलते हैं यह तीनों हड्डियां जहां मिलती हैं उसे ही घुटनों का जोड़ कहा जाता है इन तीनों के ऊपर एक चिकनी पॉलिश लेयर होती है जिससे की जब भी इन तीनों हड्डियों में मोमेंट हो यह एक दूसरे से रगड़ नहीं खाती हैं ! दोस्तों जैसे जैसे हमारी उम्र बढ़ती है वैसे-वैसे किसी भी कारण से जैसे कि चोट के कारण, जेनेटिक कारणों या बस बुढ़ापे के कारण यह पॉलिश धीरे -धीरे से घिसने लगता है और हड्डी हड्डी से टकराकर दर्द देने लग जाता है घुटनों में दर्द होने का यह एक बहुत ही बड़ा कारण है कभी-कभी चोट लगने के कारण भी घुटने में दर्द पैदा हो जाता है या कभी-कभी घुटनों में किसी प्रकार का सूजन भी घुटनो के दर्द का कारण बन सकता है। घुटने का दर्द कौन-कौन सी बीमारियों में ज्यादा होता है ! पहला कारण है   बुढ़ापे में घुटने में किसी प्रकार का परिवर्तन होना य

बवासीर क्या है - बवासीर की आयुर्वेदिक दवा हैं...

  बवासीर क्या है -  दोस्तों मैं वैसे जो है एक बहुत ही सामान्य समस्या है यह पुरुषों तथा महिलाओं में लगभग बराबर मात्रा में होती है जो लैट्रिन का रास्ता होता है उसमें जब स्वेलिंग आ जाती है फिर कोई प्रॉब्लम होती है तभी हमें पता लगता है कि हमें पाइल्स या बवासीर की समस्या है बवासीर में खून का गुच्छा होता है उस खून के गुच्छे में खून इकट्ठा हो जाएगा तो वह बवासीर का रूप ले लेगा । लगभग 50% मरीज जिनको बवासीर की समस्या होती है उनको ब्रीडिंग की प्रॉब्लम भी होती है विज्ञान ऐसा मानती है कि 50 साल की उम्र के बाद 50% जो पापुलेशन है वह बवासीर की समस्याओं से ग्रसित हो जाते हैं यानी अगर आपकी उम्र 50 साल से ज्यादा हो जाती है तो आपको बवासीर होने की संभावना बढ़ जाती है। ऐसा माना जाता है कि पाइल्स प्रेग्नेंट महिलाओं को ज्यादा होता है ! पाइल्स क्या है -  वास्तव में जो हमारा लाइटिंग का रास्ता होता है उसमें खून की नसों के गुच्छे होते हैं यह कॉमन है या सभी को होते हैं लेकिन समय के साथ जैसे-जैसे समय बढ़ते जाता है लैट्रिन के रास्ते में ज्यादा ताकत लगाने के कारण यह जो खून के नसों के गुच्छे हैं वह फूल जाते हैं जब यह

यूरिन इन्फेक्शन की आयुर्वेदिक दवा | यूटीआई से बचने के उपाय ...

  यूरिन इन्फेक्शन क्या है -  यूरिन इन्फेक्शन को यूटीआई भी कहते हैं जिसका मतलब होता है यूरिन ट्रैक इंफेक्शन। यानी कि जो हमारा यूरिन का मार्ग है जो कि किडनी से स्टार्ट होता है किडनी के बाद जो यूरिटल नलिया होती हैं और जो यूरिनरी ब्रेडल होता है और उसके बाद जो यूरिनरी वेसल होता है जिसके माध्यम से यूरिन बाहर निकलता है इस पूरे सिस्टम में जब कहीं पर भी इंफेक्शन हो जाता है तो उसको यूरिनरी ट्रैक इंफेक्शन बोलते हैं ! यूरिन इन्फेक्शन का कारण -  दोस्तों ! आइए हम यहां थोड़ा सा यूरिन इंफेक्शन के कारण के बारे में भी जान लेते हैं अगर हम आयुर्वेदिक भाषा में कहें तो आमतौर पर जब यूरो यूरिनरी ट्रैक में ज्यादा गर्मी हो जाएगी क्योंकि हम अक्षर आमतौर पर देखते हैं कि यूरिन इन्फेक्शन में जलन की समस्या होती है दर्द की समस्या होती है इसीलिए आयुर्वेद में कहा जाता है कि यदि आपका पित्त ज्यादा बढ़ेगा तो आपको यूटीआई की समस्या हो सकती है ! इसीलिए पित्त वर्धक भोजन जैसे मिर्च मसालेदार खाना तला हुआ तला हुआ बहुत ज्यादा तीखा, खट्टा या चाय, कॉफी, अल्कोहल स्मोकिंग यह सब यूरिन इन्फेक्शन के कारण होते हैं और कुछ लोग कम पानी पीते