ध्रुवासन - सरल तरीका द्वारा योग करना ( ध्रुवासन )

 सरल तरीका द्वारा योग करना 

( ध्रुवासन )

योग के माध्यम से हम जीवन के विभिन्न आयामों के ऊर्जा स्तर से जुड़ जाते हैं और हमारे शरीर में एक सकारात्मक ऊर्जा का विकास होने लगता है जो मानव जीवन कल्याण के लिए बहुत ही कल्याणकारी है ।ध्रुव शब्द का अर्थ है स्थिर और अचल यह आसन एक पैर पर खड़े होकर किया जाता है स्थिरता व एकाग्रता बढ़ाने के लिए इस आसन को किया जाता है ।

ध्रुवासन करने के तरीके -

ध्रुवासन करने के लिए सर्वप्रथम आप जमीन पर चटाई बिछाए  चित्र के अनुसार आसन को दोहराएं ।
सबसे पहले सावधान की मुद्रा में खड़े हो जाओ दाएं पैर को उठाकर बाएं जांघ पर इस प्रकार रखो कि पैर का पंजा नीचे की ओर तथा एड़ी जंघा के मूल में लगी हुई हो दोनों हाथों को नमस्कार की स्थिति में सामने रखो जैसा की चित्र में दिखाया गया है ।

ध्रुवासन चित्र 1



ध्रुवासन चित्र 2



ध्रुवासन चित्र 3


कुछ देर इसी स्थिति में रहो इसी प्रकार दूसरे पैर से भी यह अभ्यास करो 

ध्रुवासन करने के लाभ -

  • मन की चंचलता को दूर करता है 
  • नाड़ियों को मजबूती प्रदान करता है
Previous Post Next Post