Skip to main content

King of mango in all fruits | mango types and benefits

 कवि ग़ालिब को दिल्ली की लंबी ग्रीष्मकाल में जिस मुख्य चीज़ के लिए तरसना था, वह थी उनका आमों का दैनिक आहार। वास्तव में, सार्वजनिक राजधानी में गर्मियों के दौरान आम टूटना संभव है, जब शुष्क गर्मी और गर्म हवाएं कई लोगों को असहज कर सकती हैं।


 जबकि राजधानी दूसरी लहर में सुरक्षित है, यह सफेदा का मीठा तेज स्वाद या सिंदूरी का गाढ़ा स्वाद है जो शहर के लोगों की हर रोज अलग-थलग उपस्थिति को रोशन कर रहा है। आम पूरक और पोषक तत्वों से भरे होते हैं। वे बीमारियों का विरोध करने और बीमारी से लड़ने के लिए अन्य अभेद्य प्रायोजकों के साथ फाइबर और विटामिन सी से भरपूर होते हैं। अन्य चिकित्सीय लाभों में आम पाचन में भी मदद कर सकता है और सेल फोर्टिफिकेशन में समृद्ध है। 
सेल सपोर्ट पार्ट्स - ल्यूटिन और ज़ेक्सैन्थिन - इसी तरह दृष्टि संबंधी मुद्दों से लड़ने में सहायता कर सकते हैं। लॉकडाउन के दौरान पाक-कला के प्रयोग करने वालों ने व्यंजनों का बवंडर ले लिया है कि वे इन दिनों इसमें आम के साथ परीक्षण कर रहे हैं। आम को चीज़केक, ट्रीट, मिल्कशेक, कस्टर्ड आदि में मिलाया जा सकता है। वैसे भी पश्चिमी भारत के अधिकांश देसी घरों में और कहीं और आम के मौसम में पुरी के साथ आमरस का स्वाद लिया जाता है। आम तौर पर इस व्यंजन में उपयोग किया जाने वाला आम महाराष्ट्र के समुद्र तटीय इलाके में पाया जाने वाला अल्फांसो या पाईरी है। अलग-अलग इलाकों में पाए जाने वाले आम उस वफादारी में आकर्षित होते हैं जिस पर क्षेत्र के लोग निर्भर होते हैं। मुंबई में पले-बढ़े व्यक्ति के लिए अलफांसो से तोतापुरी के साथ तालमेल बिठाना बहुत ही अपमानजनक होगा। एक गुजराती अपने वलसाड आम पर निर्भर रहेगा। एक बंगाली अपने लंगड़ा या मालदा का स्वाद चखेगा, हालांकि दिल्ली का व्यक्ति कुछ अधिक अनुकूल होगा और हमेशा सफेदा, सिंदूरी, तोतापुरी और चुसा का स्वाद लेगा। एक हैदराबादी अपने बंगनपल्ली आम का स्वाद चखेगा। 

अलफांसो  - 


अल्फांसो आम दुनिया भर के बाजार में अपनी सुखदता, समृद्धि, स्वाद और अपने आकर्षण के लिए जाना जाता है। पुर्तगाली शासकों ने कोंकण और गोवा में इस वर्गीकरण की स्थापना के रूप में इसका नाम प्राप्त किया। इस वर्गीकरण का भारतीय नाम हापुस है। भारत में केसर-रंग वाले अल्फांसो आम आम की सबसे महंगी व्यवस्था हैं, जो मूल रूप से महाराष्ट्र के रत्नागिरी, सिंधुदुर्ग और रायगढ़ क्षेत्रों में भरे जाते हैं।
 Dasheri दशरी आम -  



आमतौर पर भारत के उत्तरी क्षेत्र में भरा जाता है। आम के इस वर्गीकरण को युवा विशेष रूप से पसंद करते हैं। 

लंगरा लंगड़ा आम उत्तर प्रदेश में वाराणसी के पास विकसित किए जाते हैं। वे जुलाई के अंत में व्यावसायिक क्षेत्रों में आते हैं और आंधी के दौरान खा जाते हैं। 




बादामी यह वर्गीकरण आम की क्रश और प्रेस के लिए उपयोग किए जाने वाले अधिकांश भाग के लिए है। बादामी आम अपने नियमित नएपन के लिए जाने जाते हैं।

 केसरी यह आम गिरनार के निचले इलाकों जूनागढ़ और अमरेली में गिर सुरक्षित आश्रय के आसपास भरा जाता है और इसे जीआई प्रमाण पत्र प्राप्त हुआ है।



Popular posts from this blog

तनाव से छुटकारा कैसे प्राप्त करें | तनाव मुक्त जीवन जीने के कुछ सरल उपाय

 तनाव से छुटकारा कैसे प्राप्त करें | तनाव मुक्त जीवन जीने के कुछ सरल उपाय Oknews आजकल की भाग दौड़ भरी जिंदगी में तनाव हमारे जीवन का एक हिस्सा बन गया है और हर कोई तनाव मुक्त जीवन जीने की उपाय ढूंढ रहा है आपकी जानकारी के लिए बता दूं मैं कि तनाव को हमने अपने जीवन का हिस्सा बना लिया है हम हमेशा एक समान जिंदगी जीते हैं बस हमारे मन के विचार अलग रहते हैं और जीवन जीने का संदर्भ अलग होता है अगर हम मन में सोच कुछ और रहे हैं और कर कुछ और रहे हैं तो यह तनाव को जन्म देता है और हम अपने कार्य को अच्छी तरीके से नहीं कर पाते और जो हमने सोच रखा है मन में उस में भी सफलता न मिलने के कारण तनाव बढ़ने लगता है । बात करें कुछ जीवन के उन पलों की जिस पल में इंसान किसी व्यक्ति से प्यार करता है उस दौरान भी वह उसी प्रकार की जिंदगी जीता है बस उसके मन के संदर्भ उस समय अलग होते हैं जिसकी वजह से वह अपने जीवन में संतुष्ट और खुश हो जाता है । अपने जीवन में हो रहे हर उतार-चढ़ाव को समझें अपने आप को समझे कि आप अपनी मन मुताबिक कार्य कर रहे हो हैं या नहीं आप कुछ ऐसा काम सुन सकते हैं जिससे मानव जगत का कुछ भला भी हो और आपके पास

Aate ke laddu banane ke tarike | आटे के लडडू के बारे में कुछ खास तरीके

Aate ke laddu banane ke tarike | आटे के लडडू के बारे में कुछ खास तरीके   आज हम आप को ठण्ड के मोसम में खाने वाले आटे के लडडू के बारे में कुछ खास बातें बताएंगे और उन को बनाने का तरीका भी आइए जानते हैं ।             इस ठण्ड के मौसम में बहुत तरह के लडडू बनाये जाते हैं जैसे चावल के आटे के लडडू और गैहू के आटे के लडडू और गौद के लडडू  और भी विभिन्न प्रकार के पकवान त्योहारों पर हमारे भारत में बनाए जाते हैं । लेकिन मैं आज आपके एक एसे लडडू बनाने के बारे में बताये गै जो आप ने कभी नहीं बनाये होगे यह लडडू ठण्ड के मोसम में हमारे लिए बहुत गुणकारी होते हैं कयोकि इन लडडू को बनाने में कुछ खास चीजें लगतीं है जो हमारे शरीर के लिए बहुत गुणकारी होती है कयोकि अकेले आटे के लडडू खाने से हमारे शरीर को कोई ताकत नही मिलती वो तो हम ठण्ड में खाने के लिए बना लेते हैं । आज में जो लडडू बनाने के बारे में बताऊँ गी वह हमारे लिए एक दवाई काम करते हैं ।             यह लडडू बनाने के लिए हम काले चननो का आटा लेगें यह आटा काले चननो को साबित पीस कल लेगें हमे बेसन नहीं लेना हमें साबुत काले चननो को घर पर पीस लेना है या फिर बाहर किस

घुटने का दर्द क्यों होता है - घुटने का दर्द कौन-कौन सी बीमारियों में ज्यादा होता है ! | घुटने के दर्द का सामाधान ...

  घुटने का दर्द क्यों होता है - दोस्तों यहां हम जानेंगे कि घुटने का दर्द क्यों होता है, दोस्तों या बड़ा प्रश्न है हमारा घुटना जो कि 3 हड्डियों से मिलकर बना होता है ऊपर वाली हड्डी जिसे थाई बोन बोलते हैं और नीचे वाली हड्डी जिसे लेग बोन बोलते हैं और आगे की तरफ हड्डी जिसे पटेला बोन बोलते हैं यह तीनों हड्डियां जहां मिलती हैं उसे ही घुटनों का जोड़ कहा जाता है इन तीनों के ऊपर एक चिकनी पॉलिश लेयर होती है जिससे की जब भी इन तीनों हड्डियों में मोमेंट हो यह एक दूसरे से रगड़ नहीं खाती हैं ! दोस्तों जैसे जैसे हमारी उम्र बढ़ती है वैसे-वैसे किसी भी कारण से जैसे कि चोट के कारण, जेनेटिक कारणों या बस बुढ़ापे के कारण यह पॉलिश धीरे -धीरे से घिसने लगता है और हड्डी हड्डी से टकराकर दर्द देने लग जाता है घुटनों में दर्द होने का यह एक बहुत ही बड़ा कारण है कभी-कभी चोट लगने के कारण भी घुटने में दर्द पैदा हो जाता है या कभी-कभी घुटनों में किसी प्रकार का सूजन भी घुटनो के दर्द का कारण बन सकता है। घुटने का दर्द कौन-कौन सी बीमारियों में ज्यादा होता है ! पहला कारण है   बुढ़ापे में घुटने में किसी प्रकार का परिवर्तन होना य