Skip to main content

एलर्जी खांसी की आयुर्वेदिक दवा

 एलर्जी क्या होता है - 

दोस्तों सामान्य था जो एलर्जी होती है ऐसा होता है कि हमारे शरीर में कई तरह के बैक्टीरिया और वायरस प्रवेश करते हैं रोजमर्रा में जिंदगी में जो यह वायरस और बैक्टीरिया होते हैं इनको हमारी बॉडी की इम्यून सिस्टम पहचानती है और इन के विरुद्ध आक्रमण करती है और किसके द्वारा वह वायरस और बैक्टीरिया को खत्म कर देती है जिससे कि शरीर पर विपरीत प्रभाव ना पड़े और शरीर को नुकसान नहीं पहुंचे लेकिन गड़बड़ वहां हो जाती है जहां शरीर की इम्यून सिस्टम कमजोर होती है ऐसी कुछ चीजें रहती हैं जो हमारे शरीर की दोस्त रहती हैं लेकिन वह दोस्त नहीं दुश्मन समझ लेती है जैसे कि हवा में उड़ के नाक के द्वारा अंदर जाने वाले एनिमल डेंजेल होते हैं कई अलग-अलग प्राणी होते हैं जैसे कि डॉग हुआ गाय हुई इस तरह से इनकी शरीर से बारीक- बारीक रेशे निकलते हैं जो सूखकर नाक के द्वारा अंदर जाते हैं सामान्यतः तो यह सभी को जाते हैं लेकिन कुछ लोगों में यह शरीर की जो इम्यून सिस्टम है उससे रिएक्ट करना शुरू कर देती है और वह रिएक्शन होता है उसी हम एलर्जी कहते हैं और सामान्यतः यह जो एलर्जी है वह 3- 4 तरह की एलर्जी होती है सबसे पहले नाक का एलर्जी होता है क्योंकि हवा में पाए जाने वाले वायरस या बैक्टीरिया सबसे पहले नाक की राशि बॉडी में जाते हैं जब यही एलर्जी गले से होते हुए फेफड़ों तक पहुंच जाती है तू इसी खांसी की एलर्जी अस्थमा के नाम से जाना जाता है !

एलर्जी खांसी किस मौसम में ज्यादा होती है -

 दोस्तों ! जब मौसम बदलता है उस समय खेती-बाड़ी कट रही होती है तो उस समय धूल या परागकण ज्यादा आ रहे होते हैं इससे या बीमारी बढ़ जाती है !

एलर्जी के लक्षण - 

दोस्तों खांसी की एलर्जी के लक्षण अलग-अलग तरह की हो सकते हैं यहां पर हम कुछ उदाहरण की मदद से इसके इसके लक्षण को समझने की कोशिश करते हैं जैसे कि मौसमी एलर्जी मौसम चेंज होने की एलर्जी के कुछ लक्षण होते हैं जैसे- नाक बहना, नाक जाम हो जाना, आंखों से पानी गिरना, आंखों में जलन होना, आंखों में सूजन आ जाना । यह इस टाइप की कुछ एलर्जी होती है जो कि केवल मौसम बदलने पर होते हैं !

खांसी की एलर्जी के कुछ आयुर्वेदिक उपाय -

दोस्तों यह जो खासी या स्वास्थ्य एलर्जी होती है उसके लिए आप 100 ग्राम बादाम 20 ग्राम काली मिर्च 50 ग्राम शक्कर खाएं इससे जो यह नजला, सर्दी, जुखाम, खांसी होता है वह दूर हो जाता है !

100 ग्राम बादाम 20 ग्राम कालीमिर्च 50 ग्राम शक्कर या फिर पतंजलि आयुर्वेद में मिलने वाला मधुरम का सेवन कर लीजिए जिसे खांसी की एलर्जी से आराम मिल जाता है !

यह एक चम्मच या 5 से 7 ग्राम दूध के साथ ले कर के रात में सो जाइए वैसे भी मादा और काली मिर्च का सेवन करने से एलर्जी की दिक्कत दूर हो जाती है।

पतंजलि में मिलने वाले गिलोय की दो दो गोलियों का सेवन जरूर करिए, और यदि आप गिलोय और श्वसारी प्रवाही का क्वाथ पी सके तो इससे अच्छा एलर्जी के लिए और कुछ भी नहीं हो सकता यह एलर्जी के लिए सबसे उपर्युक्त है किस का सेवन करने से 5 से 7 दिन में आपको आराम मिलेगा पुरानी से पुरानी एलर्जी, नजला खांसी, जुखाम किसी भी प्रकार की कफ से संबंधित समस्या होगी वह भी इसके सेवन से सही हो जाएगी।

इसके अलावा आप दूध में हल्दी का सेवन कर सकते हैं याद तो पतंजलि में मिलने वाली शिलाजीत या च्वयनप्राश का सेवन भी दूध के साथ कर सकते हैं ।

दोस्तों! खांसी तथा किसी भी तरह की स्वास संबंधित एलर्जी से बचने के लिए प्राणायाम जरूर करें, दोस्तों! आज की प्रदूषित वातावरण तथा भागदौड़ वाली जीवन में स्वसन क्रिया को स्वस्थ बनाए रखने के लिए प्रतिदिन जीवन में प्राणायाम बहुत ही जरूरी है।

पतंजलि केंद्र में बताया जाने वाले निम्न प्रकार के योगा और प्राणायाम की मदद से हम अपना स्वास्थ अच्छा बनाए रख सकते तथा एलर्जी की समस्याओं से आराम पा सकते हैं एलर्जी की समस्याओं से आराम पाने के लिए विभिन्न की योगा कर सकते हैं !

जैसे- भस्त्रिका, उज्जाई, अनुलोम विलोम,कपाल भारती यह योगा करने से सीधे ही हमारी स्वसन क्रिया मजबूत बनती है और हमारे फेफड़े भी मजबूत बनते हैं और जो हमारे फेफड़े मजबूत होते हैं तो हमेशा संबंधी कोई भी एलर्जी तथा बीमारी नहीं हो सकती है।

Popular posts from this blog

तनाव से छुटकारा कैसे प्राप्त करें | तनाव मुक्त जीवन जीने के कुछ सरल उपाय

 तनाव से छुटकारा कैसे प्राप्त करें | तनाव मुक्त जीवन जीने के कुछ सरल उपाय Oknews आजकल की भाग दौड़ भरी जिंदगी में तनाव हमारे जीवन का एक हिस्सा बन गया है और हर कोई तनाव मुक्त जीवन जीने की उपाय ढूंढ रहा है आपकी जानकारी के लिए बता दूं मैं कि तनाव को हमने अपने जीवन का हिस्सा बना लिया है हम हमेशा एक समान जिंदगी जीते हैं बस हमारे मन के विचार अलग रहते हैं और जीवन जीने का संदर्भ अलग होता है अगर हम मन में सोच कुछ और रहे हैं और कर कुछ और रहे हैं तो यह तनाव को जन्म देता है और हम अपने कार्य को अच्छी तरीके से नहीं कर पाते और जो हमने सोच रखा है मन में उस में भी सफलता न मिलने के कारण तनाव बढ़ने लगता है । बात करें कुछ जीवन के उन पलों की जिस पल में इंसान किसी व्यक्ति से प्यार करता है उस दौरान भी वह उसी प्रकार की जिंदगी जीता है बस उसके मन के संदर्भ उस समय अलग होते हैं जिसकी वजह से वह अपने जीवन में संतुष्ट और खुश हो जाता है । अपने जीवन में हो रहे हर उतार-चढ़ाव को समझें अपने आप को समझे कि आप अपनी मन मुताबिक कार्य कर रहे हो हैं या नहीं आप कुछ ऐसा काम सुन सकते हैं जिससे मानव जगत का कुछ भला भी हो और आपके पास

Aate ke laddu banane ke tarike | आटे के लडडू के बारे में कुछ खास तरीके

Aate ke laddu banane ke tarike | आटे के लडडू के बारे में कुछ खास तरीके   आज हम आप को ठण्ड के मोसम में खाने वाले आटे के लडडू के बारे में कुछ खास बातें बताएंगे और उन को बनाने का तरीका भी आइए जानते हैं ।             इस ठण्ड के मौसम में बहुत तरह के लडडू बनाये जाते हैं जैसे चावल के आटे के लडडू और गैहू के आटे के लडडू और गौद के लडडू  और भी विभिन्न प्रकार के पकवान त्योहारों पर हमारे भारत में बनाए जाते हैं । लेकिन मैं आज आपके एक एसे लडडू बनाने के बारे में बताये गै जो आप ने कभी नहीं बनाये होगे यह लडडू ठण्ड के मोसम में हमारे लिए बहुत गुणकारी होते हैं कयोकि इन लडडू को बनाने में कुछ खास चीजें लगतीं है जो हमारे शरीर के लिए बहुत गुणकारी होती है कयोकि अकेले आटे के लडडू खाने से हमारे शरीर को कोई ताकत नही मिलती वो तो हम ठण्ड में खाने के लिए बना लेते हैं । आज में जो लडडू बनाने के बारे में बताऊँ गी वह हमारे लिए एक दवाई काम करते हैं ।             यह लडडू बनाने के लिए हम काले चननो का आटा लेगें यह आटा काले चननो को साबित पीस कल लेगें हमे बेसन नहीं लेना हमें साबुत काले चननो को घर पर पीस लेना है या फिर बाहर किस

घुटने का दर्द क्यों होता है - घुटने का दर्द कौन-कौन सी बीमारियों में ज्यादा होता है ! | घुटने के दर्द का सामाधान ...

  घुटने का दर्द क्यों होता है - दोस्तों यहां हम जानेंगे कि घुटने का दर्द क्यों होता है, दोस्तों या बड़ा प्रश्न है हमारा घुटना जो कि 3 हड्डियों से मिलकर बना होता है ऊपर वाली हड्डी जिसे थाई बोन बोलते हैं और नीचे वाली हड्डी जिसे लेग बोन बोलते हैं और आगे की तरफ हड्डी जिसे पटेला बोन बोलते हैं यह तीनों हड्डियां जहां मिलती हैं उसे ही घुटनों का जोड़ कहा जाता है इन तीनों के ऊपर एक चिकनी पॉलिश लेयर होती है जिससे की जब भी इन तीनों हड्डियों में मोमेंट हो यह एक दूसरे से रगड़ नहीं खाती हैं ! दोस्तों जैसे जैसे हमारी उम्र बढ़ती है वैसे-वैसे किसी भी कारण से जैसे कि चोट के कारण, जेनेटिक कारणों या बस बुढ़ापे के कारण यह पॉलिश धीरे -धीरे से घिसने लगता है और हड्डी हड्डी से टकराकर दर्द देने लग जाता है घुटनों में दर्द होने का यह एक बहुत ही बड़ा कारण है कभी-कभी चोट लगने के कारण भी घुटने में दर्द पैदा हो जाता है या कभी-कभी घुटनों में किसी प्रकार का सूजन भी घुटनो के दर्द का कारण बन सकता है। घुटने का दर्द कौन-कौन सी बीमारियों में ज्यादा होता है ! पहला कारण है   बुढ़ापे में घुटने में किसी प्रकार का परिवर्तन होना य