Skip to main content

गर्भवती महिलाओं के लिए कुछ आवश्यक सावधानियां तथा खान-पान और बच्चे के स्वास्थ्य के लिए कुछ जरूरी बातें...

गर्भवती महिलाओं के लिए कुछ आवश्यक सावधानियां तथा खान-पान और बच्चे के स्वास्थ्य के लिए कुछ जरूरी बातें...


 नमस्ते दोस्तों यहां आपको गर्भवती महिलाओं को को क्या सावधानी बरतनी चाहिए तथा उनको उनके खानपान के बारे में जानकारी मिलेगी घर आ पहली बार मां बनने जा रही है तो आपको कुछ खास बातों का ध्यान रखना चाहिए जिससे आपकी प्रेगनेंसी सुखद वह हमें आप कुछ ऐसे काम बताएंगे जिन्हें प्रेगनेंसी के दौरान नहीं करनी चाहिए जिससे प्रेगनेंसी के दौरान आपको और आपके बच्चे को किसी भी प्रकार की तकलीफ ना हो !

आपको प्रेगनेंसी के दौरान है एक्सरसाइज नहीं करना चाहिए क्योंकि ऐसा करने से आपके गर्भाशय पर दबाव पड़ता है जिससे मिसकैरेज होने की संभावना बढ़ जाती है प्रेगनेंसी के दौरान है ज्यादा एक्सरसाइज करने से आपकी सांस फूलने लगती है और उसकी वजह से आपके शरीर में ऑक्सीजन की कमी हो जाती है और आपके बच्चे को भी से तकलीफ होती 

 प्रेगनेंसी के दौरान घर पर पेंट वगैरह ना कराएं क्योंकि इसमें बहुत सारे केमिकल होते हैं जो की पेंटिंग के दौरान आपके शरीर अंदर चले जाते हैं इससे आप को सांस लेने में तकलीफ होती है और साथ ही साथ आपको पेंट की महक से बेहोशी चक्कर आना ऐसी बीमारियों का भी सामना करना पड़ सकता है  !

प्रेगनेंसी के दौरान आपको फलों का जूस ज्यादा नहीं पीना चाहिए पैसे तो बोला जाता है कि प्रेगनेंसी में फल खाना बहुत अच्छा होता है और फलों का जूस भी पीना चाहिए हां फलों का जूस पीना चाहिए लेकिन बहुत ज्यादा मात्रा में नहीं पीना चाहिए क्योंकि से बहुत ज्यादा मात्रा में शुगर होती है जिससे आपको प्रेगनेंसी के द्वारा डायबिटीज होने का खतरा होता है प्रेगनेंसी के दौरान जितना हो सके घूमना फिरना कम करें खासकर अगर आप घूमने फिरने के लिए पब्लिक ट्रांसपोर्ट की मदद लेते हैं तो आपको प्रेगनेंसी के दौरान बिल्कुल ही नहीं होना चाहिए क्योंकि अगर सड़क खराब होगी तो आपको तकलीफ बहुत ज्यादा उठानी पड़ेगी और इस वजह से आपका मिसकैरेज हो सकता है और अगर आप खुद की गाड़ी से जा रहे हैं तो भी बहुत कम ही घूमना फिरना करें !

 धूम्रपान और धब्बे बंद चीजों का सेवन को परहेज करें क्योंकि इसमें बहुत सारे पेस्टिसाइड मिलाया जाते हैं जिससे कि लंबे समय तक खराब ना हो और बंद डब्बे में रह सके इसका सेवन आप को नुकसान पहुंचा सकता है !

अगर आप पीठ के बल सोते हैं तो किस का परहेज करें क्योंकि ऐसा करने पर आपके गर्व का सारा भार आपके पेट पर आ जाता है जैसे आपको प्रेगनेंसी के दौरान पीठ दर्द की शिकायत बहुत ज्यादा रहती है प्रेग्नेंसी के दौरान अपनी बाएं तरफ करवट करके ले सकते हैं !

 प्रेग्नेंसी के दौरान ज्यादा गर्म पानी से मत नहाए क्योंकि प्रेगनेंसी के दौरान आपकी बॉडी का टेंपरेचर 1 डिग्री पहले से बड़ा होता है ऐसे में अगर आप गर्म पानी से नहाएंगे तो ऐसे में आपकी बॉडी का टेंपरेचर 100 डिग्री से ज्यादा बढ़ जाएगा और आपके शरीर में ऑक्सीजन की कमी हो जाएगी और आपका ब्लड प्रेशर भी लो होने लगेगा जिससे आपके बच्चे को तकलीफ होगी और आपको भी तकलीफ होगी प्रेगनेंसी के दौरान भारी वजन न उठाए !

प्रेग्नेंसी के दौरान एकदम भारी वजन उठाने से आपको गर्भाशय नीचे की तरफ आ सकता है जिससे बच्चे की जान को खतरा होता है प्रेगनेंसी के दौरान कोई भी काम करते हैं टाइम अपने गर्भाशय को किसी दीवार के सहारे ना लगाएं इससे भी अपने दरवाजे पर दबाव पड़ता है और आपको प्रेगनेंसी में तकलीफ हो सकती है !

 प्रेगनेंसी के दौरान खानपान तथा इस परफेक्ट डाइट कैसी होनी चाहिए !

दोस्तों यहां आपको प्रेगनेंसी के दौरान सुबह से लेकर रात तक तक का पूरा डाइट प्लान बताया जाएगा अगर आपके डाइट फॉलो करते हैं इससे आपके बच्चे का शारीरिक तथा मानसिक विकास भी अच्छा होगा डाइट चार्ट पर छोटी बातों का भी ध्यान रखा गया है  !

* स्टार्ट करते हैं सुबह के नाश्ते से सबसे पहले 

सुबह सबसे पहले बच्चे के मानसिक विकास के लिए आप रात को 3 से 4 बादाम भिगो कर रख सकते हैं और उसे सुबह छिलका निकाल कर खा सकते हैं !

शरीर को पूरे दिन शीतल और ऊर्जावान बनाए रखने के लिए रात को आधा गिलास पानी में एक चम्मच सौंफ 4 से 5 काली किशमिश और एक चम्मच मिश्री पाउडर मिलाकर भिगोकर उसे सुबह खा सकते हैं यह आपके शरीर में शीतलता बनाए रखेगी और शरीर में घबराहट तथा बेचैनी जिन समस्याओं से छुटकारा दिलाएगी साथ में शिशु का अच्छा विकास करने में मदद करेगी अगर आपको सुबह में उल्टी की प्रॉब्लम है तो यह घरेलू नुक्सा आपकी समस्या से भी छुटकारा दिलाएगी !

 भीगी हुई काली किशमिश खाने से पूरे दिन पाचन प्रक्रिया सही चलती है और काली किशमिश का नियमित तौर पर सेवन करने से रोग प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ती है !

 सुबह आप नारियल पानी का भी सेवन कर सकते हैं जो आपके शरीर को सिग्नल और शांत बनाने में मदद करेगी शिशु का वजन बढ़ाने के लिए आप एक केले और एक अखरोट भी खा सकते हैं शिशु के अच्छे विकास के लिए आप सुबह में सेब भी खा सकते हैं आप सेब साथ दूध भी ले सकते हैं आप दूध को सुबह नाश्ते में भी ले सकते हैं क्योंकि दूध में एक अच्छी मात्रा में कैल्शियम और प्रोटीन पाया जाता है जिससे आपकी शिशु की हड्डियां मजबूत बनेगी और शिशु का वजन बढ़ेगा अगर आपको गैस की समस्या है तो आप सुबह में एक गिलास दूध और केला एक साथ खा सकते हैं जिससे आप की गैस की समस्या से छुटकारा मिल जाएगा !

* सुबह का नाश्ता -

सुबह का नाश्ता 9:00 से 10:00 के बीच में करना चाहिए सुबह का नाश्ता बहुत जरूरी होता है आप प्रतिदिन नाश्ते का एक शेड्यूल बना लीजिए प्रतिदिन एक जैसा नाश्ता करने से आप बोर हो जाओगे इसलिए आप एक चार्ट बना ले कि आपको सप्ताह में क्या क्या खाना है तो आइए जानते हैं नाश्ते में क्या क्या चीजे खा सकते हैं अंकुरित दालें गर्भवती महिला किसी रोज अपने नाश्ते में शामिल करें तो यह उसके लिए बहुत ही फायदेमंद रहेगा क्योंकि अंकुरित दालों में क्योंकि अंकुरित दालों में भरपूर मात्रा में प्रोटीन पाया जाता है जो कि शिशु की शादी तथा मानसिक विकास के लिए बहुत ही फायदेमंद होता है अंकुरित दालों में आप प्याज टमाटर गाजर नींबू हरा धनिया पुदीना और शिमला मिर्च डाल के उसे और टेस्टी बना कर खा सकते हैं !

 इडली , सुबह के नाश्ते में इडली खा सकते हैं इडली ने आपको सब्जियों को ऐड करके भी इसका सेवन कर सकते हैं यह आपके लिए हेल्दी और आयल फ्री नाश्ता रहेगा !

 दलिया, हरी सब्जी डालकर आप नमकीन दलिया खा सकते हैं !

आप नाश्ते में संतरे या किसी के फल का जूस ले सकते हैं संतरे में भरपूर मात्रा में विटामिन सी तथा पोटेशियम होता है जो आपके शिशु के दिल के स्वास्थ्य को बनाए रखने में मदद करेगा संतरे में पाए जाने वाले मैग्निशियम हाई ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने में मदद करेगा अनार में आयरन और फोलिक एसिड पाया जाता है जो आपके शरीर में खून की कमी को दूर कर ता है इसीलिए गर्भवती महिलाओं को संतरा तथा अनार के जूस का नियमित सेवन करना चाहिए  !

वेजिटेबल सैंडविच, हफ्ते में एक बार आप वेजिटेबल सैंडविच को भी अपने नाश्ते में शामिल कर सकते हैं जिस में पर्याप्त मात्रा में कैलोरी पाई जाती है !

पनीर पराठा, पनीर पराठा में भरपूर मात्रा में प्रोटीन कैल्शियम और कार्बोहाइड्रेट पाया जाता है जो शिशु की शारीरिक विकास के लिए बहुत ही लाभकारी होता है !

 पोहा , हफ्ते में एक बार आप पोहा को भी अपने नाश्ते में शामिल कर सकते हैं !

* हम बात करते हैं लंच डाइट चार्ट के बारे में 

दोपहर का भोजन आपको 12:00 से 1:00 बजे के बीच में कर लेना चाहिए दोस्तों आप दोपहर के भोजन में नियमित चीजों को भी नियमित रूप से शामिल कर सकते हैं जिसमें आप एक कटोरी दाल एक कटोरी सब्जी 1 प्लेट सलाद दो-तीन रोटी एक कटोरी दही को शामिल कर सकते हैं हफ्ते में तीन बार आप अपने लंच में एक प्लेट चावल भी शामिल कर सकते हैं मूंग तथा अरहर की दाल को ज्यादा शामिल करें यह डाइट शिशु के शारीरिक विकास को बढ़ाने में मदद करता है साथ में शिशु के दिल को स्वस्थ रखने में भी मदद करता है कभी-कभी टेस्ट बदलने के लिए आप मस्त हो उड़द की दाल का जी सेवन कर सकते हैं !

दाल का नियमित सेवन करने से शरीर में ब्लड सरकुलेशन अच्छा बड़ा रहता है और खून की कमी दूर होती है आप जीरा पाउडर और सेंधा नमक डाल कर खा सकते हैं एक कटोरी दही आपको अपने डाइट में जरूर शामिल करना चाहिए शिशु की हड्डियां मजबूत करने में दही मदद करता है !

 * शाम का नाश्ता शाम के नाश्ते में आप कोई भी मौसमी फल ले सकते हैं !

केला संतरा अनार सेव ले सकते हैं अगर आपने सुबह में अंकुरित अनाज नहीं खाया है तो आप शाम के नाश्ते में भी अंकुरित अनाज को नाश्ते के रूप में खा सकते हैं एक छोटा कटोरी भुना हुआ चना भी अब गुड़ के साथ खा सकते हैं अगर आपको ज्यादा चटपटा खाने का मन है तो शाम के नाश्ते में आप उसे खा सकते हैं क्योंकि शाम का ना तो जल्दी थक जाता है अगर आपने सुबह के नाश्ते में वेजिटेबल सैंडविच नहीं खाया है तो आप शाम के नाश्ते में वेजिटेबल सैंडविच का सेवन कर सकते हैं  !

* रात का खाना 

गर्भवती महिलाओं को रात का खाना 8:00 से 9:00 के बीच में कर लेना चाहिए गर्भवती महिलाओं को रात का खाना जल्दी खाने की आदत डाल लेनी चाहिए क्योंकि रात का खाना जल्दी से नहीं पता है इसलिए आप रात के भोजन में कुछ हल्का सादा खाना खाइए रात कि भोजन में आप एक कटोरी सब्जी एक दो रोटी एक कटोरी खिचड़ी एक कटोरी दही खा सकते हैं खिचड़ी के साथ आ वेजिटेबल सूप भी ले सकते हैं रात के भोजन के बाद आपको 15 से 20 मिनट तक टहलना चाहिए जिससे आपका भोजन अच्छे से बच जाए जब आप सोने के लिए बिस्तर पर जाएं उसके पहले आप एक गिलास हल्का गुनगुना दूध पी सकते हैं अगर आपको पसंद है तो आप दूध में एक चम्मच घी डालकर भी दूध पी सकते हैं जो आपको अच्छे नहीं देने में मदद करेगा दोस्तों यह तक गर्भवती महिलाओं के लिए सुबह से लेकर शाम तक का एक परफेक्ट डाइट चार्ट 

प्रेगनेंसी के दौरान शुरुआत के 3 महीने क्या क्या नहीं खाना चाहिए !

कहते हैं कि प्रेगनेंसी के दौरान शुरुआत के 3 महीने महिलाओं के लिए बहुत ही ज्यादा खास होते हैं यह 3 महीने बहुत नाजुक होते हैं इन 3 महीनों में मिसकैरेज होने का सबसे ज्यादा होता है की वजह है कि गर्भवती महिलाओं को शुरुआत के 3 महीने में खान खानपान से संबंधित जानकारी होना बहुत ही जरूरी होता है इन 3 महीनों में छोटी सी गलती भी भारी पड़ सकती है कि हम आपको यहां बताएंगे कि शुरुआत के 3 महीने में आपको क्या नहीं खाना चाहिए !

1) एलोवेरा जूस स्किन के लिए एलोवेरा मोदी अच्छा माना जाता है यहां तक की एलोवेरा जूस पीने से आप कई बीमारियों से खुद का बचाव कर सकते हैं लेकिन आपको यह जानना भी जरूरी है की प्रेग्नेंट महिलाओं के लिए एलोवेरा का जूस जहर होता है एलोवेरा जूस लेने से आपको यूट्रस से ब्रीडिंग हो सकती है इससे आपका मिसकैरेज हो सकता है के लिए बेहतर होगा कि आप प्रेगनेंसी के शुरुआती 3 महीनों में एलोवेरा जूस का सेवन ना करें  !

2) पपीता मिसकैरेज का कारण बनने में पपीते का नंबर सबसे पहले आता है क्योंकि हरा और आधा पका पपीता ऐसे एंजाइम से भरा होता है जिसे खाने से मिसकैरेज का खतरा बढ़ जाता है इसीलिए शुरुआती महीनों में पपीता बिल्कुल ही नहीं खाना चाहिए !

3) मछली , मछली प्रोटीन का सबसे अच्छा स्रोत मानी जाती है और इसमें ओमेगा 3 फैटी एसिड भी सबसे ज्यादा पाया जाता है प्रेग्नेंट महिला के लिए दोनों ही पोषक तत्व अच्छे होते हैं मछली में और भी तरह के पोषक तत्व पाए जाते हैं लेकिन इसमें अधिक मात्रा में मरकरी होता है जो बच्चे के लिए घातक साबित हो सकता है इसलिए प्रेग्नेंट महिलाओं को मछली खाने के लिए मना किया जाता है क्योंकि इसकी वजह से महिलाओं को सूजन उल्टी जैसी समस्याओं का खतरा रहता है अगर आपको बहुत ज्यादा खाने का मन हो रहा है इसलिए बहुत ही कम मात्रा में खा सकते हैं !

4) तिल का बीज प्रेग्नेंट महिलाओं को पूरे 9 महीने में तिल के बीज का सेवन बहुत कम करना चाहिए क्योंकि इसे गुड़ मिलाकर खाने से मिसकैरेज होने का खतरा रहता है प्रेगनेंसी के तीसरे महीने में काले तिल के बीच खा सकते हैं क्योंकि यह नॉर्मल डिलीवरी में भी आप ही काफी हेल्प करते हैं !

5) सहजन की सब्जी विटामिन पोटैशियम तथा ओटी भरा सहजन बहुत ही फायदेमंद होता है किंतु इसमें अल्फासीटों एस्ट्रोजन भी पाया जाता है जो कि बहुत ही ज्यादा खतरनाक होता है इस एस्ट्रोजन की वजह से आपका मिसकैरेज भी हो सकता है इसलिए शुरुआती 3 महीनों में इसकी सब्जी या किसी तरह से भी इसका सेवन ना करें !

6) दूध, दूध को कैल्शियम का भंडार माना जाता है जो प्रेग्नेंट महिलाओं के लिए बहुत ही जरूरी होता है यह गर्भ में शिशु तथा 3 महीना के हड्डियों के लिए बहुत ही फायदेमंद माना जाता है किंतु इसमें एक बात का आपको खास ध्यान रखना है कभी भी मीना उबला हुआ दूध ना पिए कच्चे दूध में बहुत सारे बैक्टीरिया होते हैं जो प्रेग्नेंट महिलाओं तथा उसके बच्चे के लिए हानिकारक होता है !

 गर्भावस्था के शुरुआती 3 महीने बहुत ही नाजुक होते हैं अगर यह 3 महीने अच्छे से निकल आते हैं तो तो मिसकैरेज ऐसा खतरा बहुत ही कम हो जाता है इसलिए इन 3 महीनों में कुछ भी ऐसा ना करें जिससे बच्चों को नुकसान पहुंचे !






Comments

Popular posts from this blog

अपने जन्माष्टमी समारोह को थोड़ा खास बनाएं

 जन्माष्टमी का उत्सव भगवान कृष्ण को उनकी संपूर्णता में आमंत्रित करने के लिए समर्पित है। घटना की प्रशंसा करने के हर किसी के अपने विशेष तरीके होते हैं, वैसे भी, कुछ समारोह ऐसे होते हैं जो सामान्य होते हैं। निम्नलिखित कुछ ऐसे रिवाज़ हैं जिन्हें आप जश्न मनाने और उत्सव में कुछ और हिस्सा लेने के लिए कर सकते हैं।  दिन की छुट्टी पर उपवास शुरू करें -  उपवास जन्माष्टमी अवसर के सबसे मौलिक और सर्वव्यापी टुकड़ों में से एक है। आप आम तौर पर उत्सव की अधिक प्रशंसा करने के लिए घटना पर एक त्वरित नोटिस कर सकते हैं।  गुच्छा प्रतिबिंब धुनों और सेरेनेड्स में भाग लें -    गायन कीर्तन, या प्रतिबद्धता, महिमा, या प्रशंसा की धुन, जन्माष्टमी उत्सव का एक और महत्वपूर्ण घटक है। इस तथ्य के अलावा कि यह मूर्खता और प्रतिबिंब है, यह वास्तव में एक उत्सव के एक टुकड़े की तरह महसूस करने का कारण बनता है। इसी तरह, कीर्तन व्यक्तियों को एकजुट करते हैं।  अभयारण्य के लिए पुष्पांजलि और विभिन्न डिजाइनों की योजना बनाएं -    इस अवसर के सख्त और खुश घटकों में भाग लेने के लिए अपने घर या अपने पड़ोसी में अभयारण्य को सजाने में सहायता कर

Aate ke laddu banane ke tarike | आटे के लडडू के बारे में कुछ खास तरीके

Aate ke laddu banane ke tarike | आटे के लडडू के बारे में कुछ खास तरीके   आज हम आप को ठण्ड के मोसम में खाने वाले आटे के लडडू के बारे में कुछ खास बातें बताएंगे और उन को बनाने का तरीका भी आइए जानते हैं ।             इस ठण्ड के मौसम में बहुत तरह के लडडू बनाये जाते हैं जैसे चावल के आटे के लडडू और गैहू के आटे के लडडू और गौद के लडडू  और भी विभिन्न प्रकार के पकवान त्योहारों पर हमारे भारत में बनाए जाते हैं । लेकिन मैं आज आपके एक एसे लडडू बनाने के बारे में बताये गै जो आप ने कभी नहीं बनाये होगे यह लडडू ठण्ड के मोसम में हमारे लिए बहुत गुणकारी होते हैं कयोकि इन लडडू को बनाने में कुछ खास चीजें लगतीं है जो हमारे शरीर के लिए बहुत गुणकारी होती है कयोकि अकेले आटे के लडडू खाने से हमारे शरीर को कोई ताकत नही मिलती वो तो हम ठण्ड में खाने के लिए बना लेते हैं । आज में जो लडडू बनाने के बारे में बताऊँ गी वह हमारे लिए एक दवाई काम करते हैं ।             यह लडडू बनाने के लिए हम काले चननो का आटा लेगें यह आटा काले चननो को साबित पीस कल लेगें हमे बेसन नहीं लेना हमें साबुत काले चननो को घर पर पीस लेना है या फिर बाहर किस

सफेद दाग क्या होता है - सफेद दाग होने के कारण ,सफेद दाग का आयुर्वेदिक इलाज...

सफेद दाग क्या होता है - दोस्तों! सफेद दाग जन्म के बाद आने वाला स्किन प्रॉब्लम है जिसमें हमारी स्किन में जो कलर देने वाली पेशियां होती हैं वह मर जाती हैं हमारे स्कीम पर मिल्की वाइट या दूध जैसे सफेद दाग आने लगते हैं और हमारे स्क्रीन के लेयर में जो मेलानोसाइट्स नाम की जो पेशी होती है जो आपकी स्किन को कलर देती है यह मेलेलिन साइड जो रहती है वह मेलेलिन नाम की पिगमेंट बनाती है यह वेल्डिंग पिगमेंट की वजह से ही हमारे स्कूल में जो भी कलर है वह आता है इस मेलेलिन पिगमेंट की आपकी स्किन में होने वाले मात्रा के अनुसार है आपका स्क्रीन का जो कलर है वह निर्धारित होता है मेलेनिन पिगमेंट जब स्किन में ज्यादा होता है तब स्किन का कलर डार्क ब्राउन या सांवली दिखती है और अगर यह मेलेलिन पिगमेंट कम होता है तो आप की स्कीन गोरी या फिर दिखती है । सफेद दाग के शुरुआती लक्षण -  दोस्तों! इस रोग में रोगी को किसी तरह की दिक्कत तो नहीं होती है मगर सफेद दाग चेहरे और हाथ पैर पर दिखाई देते हैं जिसके कारण रोगी कुरुप नजर आता है इस कारण रोगी तनाव हीन भावना और डिप्रेशन में रहता है रोगी की स्क्रीन पर छोटे-छोटे सफेद धब्बे दिखाई देत

lampi virus से अपनी गाय को बचाने के लिए निम्न प्रकार की सावधानियां रखें आइए जानते हैं कैसे...

lampi virus   आज पूरे भारतवर्ष में हमारी गाय माता पर हावी है जिसकी वजह से हमारी गायों को अत्यधिक नुकसान हो रहा है और हमारे किसान कुछ नहीं कर पा रहे हैं लेकिन आज हम जानेंगे लंबी वायरस से अपने गायों को बचाने के लिए कुछ बेहतरीन सावधानियां जिनसे कुछ चांस कम हो जाएंगे lampi virus होने के आइए जानते हैं -- साफ सफाई का रखें ध्यान - अगर गायों को रखने वाला जगह साफ सुथरा नहीं है तो वहां से गायों को इन्फक्शन होने की संभावना बढ़ जाती है इसलिए कोशिश करेगी गायों को रखने वाले स्थान यानी कि तबेला साफ सुथरा रखें और अगर वहां पर कीचड़ हमेशा बना रहता है तो उस कीचड़ में मिट्टी का तेल अवश्य डालें या उसकी जड़ में मिट्टी के तेल का छिड़काव करें इससे कीचड़ में किसी भी तरह की बैक्टीरिया और वायरस नहीं बनेंगे ! खानपान हरियाली - समय के साथ हर जियो अपनी धीरे-धीरे पोलूशन बड़ी दुनिया में अपनी पाचन क्रिया को होता जा रहा है खेतों में अच्छी प्रकार हरियाली लाने के लिए यूरिया डाई कार्बोनेटेड क्या दिखा दो का उपयोग किया जा रहा है जो हमारे सेहत के लिए कहीं न कहीं अच्छा नहीं है यहां हम बात उन किसानों की कर रहे हैं जो कई लोग बा

एलर्जी खांसी की आयुर्वेदिक दवा

 एलर्जी क्या होता है -  दोस्तों सामान्य था जो एलर्जी होती है ऐसा होता है कि हमारे शरीर में कई तरह के बैक्टीरिया और वायरस प्रवेश करते हैं रोजमर्रा में जिंदगी में जो यह वायरस और बैक्टीरिया होते हैं इनको हमारी बॉडी की इम्यून सिस्टम पहचानती है और इन के विरुद्ध आक्रमण करती है और किसके द्वारा वह वायरस और बैक्टीरिया को खत्म कर देती है जिससे कि शरीर पर विपरीत प्रभाव ना पड़े और शरीर को नुकसान नहीं पहुंचे लेकिन गड़बड़ वहां हो जाती है जहां शरीर की इम्यून सिस्टम कमजोर होती है ऐसी कुछ चीजें रहती हैं जो हमारे शरीर की दोस्त रहती हैं लेकिन वह दोस्त नहीं दुश्मन समझ लेती है जैसे कि हवा में उड़ के नाक के द्वारा अंदर जाने वाले एनिमल डेंजेल होते हैं कई अलग-अलग प्राणी होते हैं जैसे कि डॉग हुआ गाय हुई इस तरह से इनकी शरीर से बारीक- बारीक रेशे निकलते हैं जो सूखकर नाक के द्वारा अंदर जाते हैं सामान्यतः तो यह सभी को जाते हैं लेकिन कुछ लोगों में यह शरीर की जो इम्यून सिस्टम है उससे रिएक्ट करना शुरू कर देती है और वह रिएक्शन होता है उसी हम एलर्जी कहते हैं और सामान्यतः यह जो एलर्जी है वह 3- 4 तरह की एलर्जी होती है

तनाव से छुटकारा कैसे प्राप्त करें | तनाव मुक्त जीवन जीने के कुछ सरल उपाय

 तनाव से छुटकारा कैसे प्राप्त करें | तनाव मुक्त जीवन जीने के कुछ सरल उपाय Oknews आजकल की भाग दौड़ भरी जिंदगी में तनाव हमारे जीवन का एक हिस्सा बन गया है और हर कोई तनाव मुक्त जीवन जीने की उपाय ढूंढ रहा है आपकी जानकारी के लिए बता दूं मैं कि तनाव को हमने अपने जीवन का हिस्सा बना लिया है हम हमेशा एक समान जिंदगी जीते हैं बस हमारे मन के विचार अलग रहते हैं और जीवन जीने का संदर्भ अलग होता है अगर हम मन में सोच कुछ और रहे हैं और कर कुछ और रहे हैं तो यह तनाव को जन्म देता है और हम अपने कार्य को अच्छी तरीके से नहीं कर पाते और जो हमने सोच रखा है मन में उस में भी सफलता न मिलने के कारण तनाव बढ़ने लगता है । बात करें कुछ जीवन के उन पलों की जिस पल में इंसान किसी व्यक्ति से प्यार करता है उस दौरान भी वह उसी प्रकार की जिंदगी जीता है बस उसके मन के संदर्भ उस समय अलग होते हैं जिसकी वजह से वह अपने जीवन में संतुष्ट और खुश हो जाता है । अपने जीवन में हो रहे हर उतार-चढ़ाव को समझें अपने आप को समझे कि आप अपनी मन मुताबिक कार्य कर रहे हो हैं या नहीं आप कुछ ऐसा काम सुन सकते हैं जिससे मानव जगत का कुछ भला भी हो और आपके पास

घुटने का दर्द क्यों होता है - घुटने का दर्द कौन-कौन सी बीमारियों में ज्यादा होता है ! | घुटने के दर्द का सामाधान ...

  घुटने का दर्द क्यों होता है - दोस्तों यहां हम जानेंगे कि घुटने का दर्द क्यों होता है, दोस्तों या बड़ा प्रश्न है हमारा घुटना जो कि 3 हड्डियों से मिलकर बना होता है ऊपर वाली हड्डी जिसे थाई बोन बोलते हैं और नीचे वाली हड्डी जिसे लेग बोन बोलते हैं और आगे की तरफ हड्डी जिसे पटेला बोन बोलते हैं यह तीनों हड्डियां जहां मिलती हैं उसे ही घुटनों का जोड़ कहा जाता है इन तीनों के ऊपर एक चिकनी पॉलिश लेयर होती है जिससे की जब भी इन तीनों हड्डियों में मोमेंट हो यह एक दूसरे से रगड़ नहीं खाती हैं ! दोस्तों जैसे जैसे हमारी उम्र बढ़ती है वैसे-वैसे किसी भी कारण से जैसे कि चोट के कारण, जेनेटिक कारणों या बस बुढ़ापे के कारण यह पॉलिश धीरे -धीरे से घिसने लगता है और हड्डी हड्डी से टकराकर दर्द देने लग जाता है घुटनों में दर्द होने का यह एक बहुत ही बड़ा कारण है कभी-कभी चोट लगने के कारण भी घुटने में दर्द पैदा हो जाता है या कभी-कभी घुटनों में किसी प्रकार का सूजन भी घुटनो के दर्द का कारण बन सकता है। घुटने का दर्द कौन-कौन सी बीमारियों में ज्यादा होता है ! पहला कारण है   बुढ़ापे में घुटने में किसी प्रकार का परिवर्तन होना य

बवासीर क्या है - बवासीर की आयुर्वेदिक दवा हैं...

  बवासीर क्या है -  दोस्तों मैं वैसे जो है एक बहुत ही सामान्य समस्या है यह पुरुषों तथा महिलाओं में लगभग बराबर मात्रा में होती है जो लैट्रिन का रास्ता होता है उसमें जब स्वेलिंग आ जाती है फिर कोई प्रॉब्लम होती है तभी हमें पता लगता है कि हमें पाइल्स या बवासीर की समस्या है बवासीर में खून का गुच्छा होता है उस खून के गुच्छे में खून इकट्ठा हो जाएगा तो वह बवासीर का रूप ले लेगा । लगभग 50% मरीज जिनको बवासीर की समस्या होती है उनको ब्रीडिंग की प्रॉब्लम भी होती है विज्ञान ऐसा मानती है कि 50 साल की उम्र के बाद 50% जो पापुलेशन है वह बवासीर की समस्याओं से ग्रसित हो जाते हैं यानी अगर आपकी उम्र 50 साल से ज्यादा हो जाती है तो आपको बवासीर होने की संभावना बढ़ जाती है। ऐसा माना जाता है कि पाइल्स प्रेग्नेंट महिलाओं को ज्यादा होता है ! पाइल्स क्या है -  वास्तव में जो हमारा लाइटिंग का रास्ता होता है उसमें खून की नसों के गुच्छे होते हैं यह कॉमन है या सभी को होते हैं लेकिन समय के साथ जैसे-जैसे समय बढ़ते जाता है लैट्रिन के रास्ते में ज्यादा ताकत लगाने के कारण यह जो खून के नसों के गुच्छे हैं वह फूल जाते हैं जब यह

यूरिन इन्फेक्शन की आयुर्वेदिक दवा | यूटीआई से बचने के उपाय ...

  यूरिन इन्फेक्शन क्या है -  यूरिन इन्फेक्शन को यूटीआई भी कहते हैं जिसका मतलब होता है यूरिन ट्रैक इंफेक्शन। यानी कि जो हमारा यूरिन का मार्ग है जो कि किडनी से स्टार्ट होता है किडनी के बाद जो यूरिटल नलिया होती हैं और जो यूरिनरी ब्रेडल होता है और उसके बाद जो यूरिनरी वेसल होता है जिसके माध्यम से यूरिन बाहर निकलता है इस पूरे सिस्टम में जब कहीं पर भी इंफेक्शन हो जाता है तो उसको यूरिनरी ट्रैक इंफेक्शन बोलते हैं ! यूरिन इन्फेक्शन का कारण -  दोस्तों ! आइए हम यहां थोड़ा सा यूरिन इंफेक्शन के कारण के बारे में भी जान लेते हैं अगर हम आयुर्वेदिक भाषा में कहें तो आमतौर पर जब यूरो यूरिनरी ट्रैक में ज्यादा गर्मी हो जाएगी क्योंकि हम अक्षर आमतौर पर देखते हैं कि यूरिन इन्फेक्शन में जलन की समस्या होती है दर्द की समस्या होती है इसीलिए आयुर्वेद में कहा जाता है कि यदि आपका पित्त ज्यादा बढ़ेगा तो आपको यूटीआई की समस्या हो सकती है ! इसीलिए पित्त वर्धक भोजन जैसे मिर्च मसालेदार खाना तला हुआ तला हुआ बहुत ज्यादा तीखा, खट्टा या चाय, कॉफी, अल्कोहल स्मोकिंग यह सब यूरिन इन्फेक्शन के कारण होते हैं और कुछ लोग कम पानी पीते