Skip to main content

प्राणायाम , प्राणायाम के सामान्य नियम,भस्त्रिका,कपालभाति,शीतली,सीत्कारी,भ्रामरी,अनुलोम - विलोम,उज्जायी प्राणायाम के लाभ...

 प्राणायाम , प्राणायाम के सामान्य नियम,भस्त्रिका,कपालभाति,शीतली,सीत्कारी,भ्रामरी,अनुलोम - विलोम,उज्जायी प्राणायाम के लाभ...


प्राणायाम योग का चौथा अंग है यह दो शब्दों से मिलकर बना है प्राण और आयाम प्राण का अर्थ है शरीर में संचालित होने वाली वाइफ जिसे जीवन शक्ति कहते हैं तथा आयाम का अर्थ है नियंत्रण प्राणायाम का अर्थ हुआ स्वास प्रवास प्रक्रिया को नियंत्रण करना प्राण के अनियंत्रित होने से शरीर के रोग को समाप्त किया जा सकता है !

 प्राणायाम के द्वारा रोगों से बचा जा सकता है इससे तन-मन स्वस्थ रहता है

प्राणायाम के सामान्य नियम -

प्राणायाम करने से पूर्व नियमों का पालन व सावधानियां अवश्यक होती हैं -

  • प्राणायाम को प्रातः काल सूर्योदय के समय व सायंकाल सूर्यास्त के समय करना ज्यादा उपयुक्त है ।

  • स्वच्छ हवादार व खुले स्थान पर ही बैठकर प्राणायाम करना चाहिए अथवा नदी तालाब बगीचा तथा उद्यान आदि के समीप अभ्यास करना सबसे उपयुक्त है परंतु बैठने का स्थान ऊंचा नीचा ना होकर समतल होना चाहिए ।
  • शहरों में जहां प्रदूषण का अधिक प्रभाव होता है वहां प्राणायाम करने से पहले ही जी अगरबत्ती या धूप से उस स्थान को संबंधित करने से ज्यादा लाभ प्राप्त कर सकते हैं!
  • प्राणायाम हेतु बैठने के लिए कंबल दरी एवं चादर आदि नरम व सात्विक वस्तुओं का प्रयोग करें ।
  • प्राणायाम के लिए प्रयुक्त आसन विद्युत का कुचालक होना चाहिए ।
  • प्राणायाम करते समय अपनी गर्दन रीड की हड्डी छाती एवं कमर को सीधा रखते हुए जिस आसन में आप अधिक समय तक बैठ सकते हैं उस में बैठकर प्राणायाम करना चाहिए ।

  • यदि पैर मोड़कर बैठने में कोई समस्या है तो कुर्सी पर बैठकर प्राणायाम कर सकते हैं ध्यान रहे रीड की हड्डी सीधी हो खड़े होकर अथवा घूमते फिरते प्राणायाम नहीं करना चाहिए ।
  • स्वास सदा नाक से ही लें इससे श्वास शुद्ध होकर अंदर जाता है मुंह से सांस ना ले सामान्य अवस्था में भी नाक से सांस लेना चाहिए अति धीरे-धीरे या अति बलपूर्वक प्राणायाम नहीं करना चाहिए ।

  • प्राणायाम करने वाले बच्चों को अपने आहार का विशेष ध्यान रखना चाहिए उन्हें पिज्जा बर्गर मैगी चाऊमीन आदि फास्ट फूड व कोल्ड ड्रिंक आदि नुकसानदायक पेड़ों को नहीं लेना चाहिए
  • बच्चों को सदैव सात्विक एवं चिकनाई युक्त आहार लेना चाहिए जैसे फल सब्जियां दूध घी आदि ।

भस्त्रिका प्राणायाम - 

भस्त्रिका का अर्थ है धोकनी , इस प्राणायाम को भस्मिका इसलिए कहते हैं क्योंकि इसमें लोहार की ढोकनी के समान तीव्र और निरंतर गति से स्वास - प्रशवास जाता है ।

आइए करके सीखते हैं -

  • सबसे पहले किसी भी धनात्मक आसन जैसे पद्मासन सुखासन आदि में सुविधाजनक बैठ जाएं ।
  • अब दोनों ना सिखाओ से सांसो को पूरा भरे फिर सांस को बाहर भी पूरी शक्ति से छोड़ना है इस क्रिया को ही भस्मिका प्राणायाम कहते हैं ।
  • इस प्राणायाम को अपने शरीर की क्षमता के अनुसार तीन प्रकार से किया जा सकता है मंद गति से ,मध्यम गति से ,एक तीव्र गति से ! जिन बच्चों के फेफड़े और हृदय कमजोर हो उन्हें मंद गति से यह प्राणायाम करना चाहिए इस प्राणायाम को 5 मिनट तक करें ।




भस्त्रिका प्राणायाम के लाभ -

यहां प्राणायाम बच्चों के सर्दी जुकाम एलर्जी आदि रोग दूर करने में लाभदायक है ।
फेफड़े सबल बनते हैं तथा हृदय व मस्तिष्क को शुद्ध प्राणवायु मिलने से आरोग्य लाभ मिलता है ।

कपालभाति प्राणायाम -

कपालभाती दो शब्दों से मिलकर बना है कपाल और भारती कपाल का अर्थ है माथा या मस्तिक भारतीय का अर्थ है आभा तेज या प्रकाश इस प्राणायाम को करने से चेहरे एवं माथे पर आभार एवं ओर बढ़ता है तथा मस्तिष्क का विकास होता है अतः यह कपालभाति प्राणायाम कहलाता है ।

आओ करके सीखते हैं - 

  • सबसे पहले पद्मासन या सुखासन की स्थिति में बैठ जाएं फिर आंखें बंद रखें ।
  • बच्चों इस बात का खास ध्यान रखो कि कपालभाती में श्वास को बाहर छोड़ने पर ही पूरा ध्यान देना है । सहज रूप से जितना स्वस अंदर आ जाता है उस सास को बलपूर्वक बाहर छोड़ते हैं ।
  • ऐसा करने से तुम्हारा उधर भाग भी अंदर बाहर की ओर गतिमान होता है जिससे शरीर के अंदर के अंगों की मालिश हो जाती है ।
  • इस प्राणायाम को करते समय मन में अच्छे अच्छे विचार भरे जैसे ही मैं सांस छोड़ रहा हूं मेरे शरीर के रोग भी बाहर निकल रहे हैं आदि ।
  • इस प्राणायाम को कम से कम 5 मिनट अवश्य करना चाहिए जो बच्चों की तीव्रता से श्वास को बाहर ना सके वह सस्ता में अपनी क्षमता के अनुसार अभ्यास करें ।




कपालभाति प्राणायाम करने के लाभ -

इस प्राणायाम से चेहरे का ओज ,तेज तथा सौंदर्य बढ़ता है ।
मन स्थिर शांत और प्रसन्न रहता है । तथा नकारात्मक विचार जैसे निराशा भय आदि दूर होते हैं ।
इस प्राणायाम से स्वास रोग मोटापा आदि दूर होते हैं ।
मस्तिष्क उधर हृदय एवं फेफड़ों की क्रियाशीलता बढ़ती है ।


शीतली प्राणायाम -

शीतलता प्रदान करने के कारण इस प्राणायाम का नाम शीतली प्राणायाम है ।

आइए शीतली प्राणायाम करना सीखें -

  • सबसे पहले पद्मासन या सुखासन में बैठ जाओ ।
  • अब जीव को बाहर निकालो एवं उसे एक नलिका या गोल ट्यूब की तरह मोड़ लो ।
  • जीभ से धीरे-धीरे सांस लेकर फेफड़ों को पूर्ण रूप से वायु से भरो ।
  • इसी स्थिति में कुछ क्षण श्वास को रोककर रखो ।
  • अब नासिका से धीरे-धीरे श्वास को बाहर छोड़ो । सास को छोड़ते समय जीभ भीतर कर लो ।
  • जीभ बाहर निकाल कर ट्यूब की आकृति बनाओ एवं फेफड़ों को धीरे-धीरे श्वास लेते हुए भरो । अब जीभ भीतर कर नासिका से श्वास छोड़ो ।

शीतली प्राणायाम के लाभ -

इस प्राणायाम से गले एवं जीव की बीमारियां दूर हो जाती हैं ।
गर्मी को कम करने के लिए यह उत्तम है ।
जिन्हें गला सूखने की शिकायत हो या जिन को अधिक पसीना आता है उनके लिए यह प्राणायाम लाभकारी है ।
तुलतुलाकर बोलने वाले व्यक्तियों के उपचार के लिए यह किया जा सकता है ।


सीत्कारी प्राणायाम

सीत्कारी प्राणायाम के अभ्यास के समय सीत्कारी की आवाज सी सी सी निकाली जाती है और इसे सीत्कारी प्राणायाम कहते हैं ।

आइए करके सीखते हैं सीत्कारी प्राणायाम-

  • बच्चों सबसे पहले ध्यान के किसी भी आसन जैसे पद्मासन सुखासन आदि में बैठ जाओ ।
  • अब जीभ को तालू में लगाकर ,दांतो को एकदम सटा कर होठों को खोल कर रखें ।
  • अब धीरे-धीरे सी - सी की आवाज करते हुए मुंह से स्वास लो... और... गहरी सांस लेकर फेफड़ों को पूरा भर लो ।
  • अब नासिका से धीरे-धीरे श्वास को बाहर छोड़ो स्वास को छोड़ते समय मुख को बंद कर लो ।
  • इस क्रिया को 8-10 बार तक दोहराव शीतकाल में इस प्राणायाम का अभ्यास कम करना चाहिए।

सीत्कारी प्राणायाम करने के लाभ -

जिन बच्चों को निद्रा अधिक आती है यह प्राणायाम उनकी निद्रा को कम करता है तथा शरीर को शीतल रखता है ।
बच्चों के दांतों के रोग शायरियां आदि इस प्राणायाम से दूर होते हैं ।
यह प्राणायाम गला मुख और जीभ के रोगों में लाभ प्राप्त है ।

भ्रामरी प्राणायाम

इस प्राणायाम में भ्रमण अर्थात भंवरे के समान गुंजन किया जाता है इसलिए इस प्राणायाम को भ्रामरी प्राणायाम कहते हैं ।

आइए करके सीखते हैं -

  • बच्चों को सबसे पहले ध्यान के किसी भी आसन जैसे पद्मासन सुखासन आदमी बैठो ।
  • स्वास फेफड़ों से भरकर हाथों के अंगूठे से कानून को बंद करो मध्यमा उंगलियों को नाक के मूल में आंख के पास रखो ।
  • इसके बाद आंखें बंद करो अब भ्रमण के समान गुंजन करते हुए धीरे-धीरे श्वास बाहर की ओर छोड़ो ।
  • भ्रमर का गुंजन अमं... करते हुए मुंह खुला नहीं रहना चाहिए सांस छोड़ने तक अमं... की आवाज एक समान गति से हो ।






भ्रामरी प्राणायाम करने के लाभ -

पढ़ाई में मन लगाने के लिए यह प्राणायाम लाभदायक है 

स्मरण शक्ति और बुद्धि का विकास करता है ।

सिरदर्द नींद ना आना और मानसिक तनाव आदि में आराम देता है ‌।


अनुलोम - विलोम प्राणायाम

इस प्राणायाम में नाक के एक शिविर में स्वस लेते हैं और नाक के दूसरे क्षेत्र में स्वास्थ्य को छोड़ देते हैं इसलिए इस प्राणायाम को अनुलोम विलोम प्राणायाम कहते हैं ।

आइए करके सीखते है -

सबसे पहले ध्यान के किसी भी आसन जैसे पद्मासन या सुखासन में बैठते हैं और आंखें बंद रखते हैं अब दाईं हाथ के अंगूठे से दाएं नाक को बंद कर के बाईं ओर से सांस लेकर दाईं और से श्वास बाहर छोड़ते हैं और फिर बाईं नाक को बंद करके दाईं उसे श्वास लेकर नाक के बाईं उसे श्वास बाहर छोड़ देते हैं । नाक के जिस क्षेत्र में श्वास लें दूसरे छिद्र से सांस छोड़ दे यानी जहां से स्वास छोड़ें वहीं से दोबारा श्वास ले इस प्राणायाम को कम से कम 5 मिनट लगातार करना चाहिए ।




अनुलोम विलोम प्राणायाम करने के लाभ -

शरीर की समस्त नारियां शुद्ध होती हैं जिससे शरीर स्वस्थ सुंदर और बलवान बनता है हृदय एवं फेफड़ों स्वस्थ एवं निरोगी बनते हैं मस्तिष्क की सक्रियता बढ़ती है एकाग्रता एवं स्मरण शक्ति बढ़ती है ।

उज्जायी प्राणायाम

इस प्राणायाम के अभ्यास को यश देने वाला माना जाने के कारण इसे उज्जायी प्राणायाम कहा गया है । संकेश्वर में उच्चारित होने के कारण भी इसे उज्जायी कहा गया है ।

उज्जायी प्राणायाम करने के तरीके -

इस प्राणायाम विश्वास को भरते हुए गले को सिकुड़ते हैं और जब गले को सिकुड़ कर श्वास अंदर भरते हैं तब सूचना खर्राटे की सी आवाज गले से उत्पन्न होती है मुंह बंद रहेगा तथा श्वास क्रिया नासिका से होगी । आवाज निकालने के लिए गले के मूल भाग को तालु से छूटे हुए सांस लेना चाहिए दाईं हाथ के अंगूठे से दाईं नासिका को बंद करके बाईं नासिका से श्वास को बाहर छोड़ें । श्वास छोड़ते समय ध्वनि नहीं होगी इस प्राणायाम को 5 से 10 बार प्रतिदिन किया जा सकता है ।


उज्जायी प्राणायाम करने के लाभ -

यह प्राणायाम उन बच्चों के लिए विशेष लाभप्रद है जिनके टॉन्सिल बढ़ जाते हैं, जुखाम जल्दी हो जाता है तथा जी न जल्दी इन्फ्लूएंजा एवं ब्रोंकाइटिस की शिकायत हो जाती है ।
संगीत सीखने वाले बच्चों के लिए भी या लाभदायक है । इससे उनका गला स्वस्थ रहता है एवं आवाज सुरीली और बुलंद  हो जाती है बच्चों का तुतलाना दूर करने में भी यह प्राणायाम लाभदायक है ।
जो सोते समय खर्राटे लेते हैं उनको इस प्राणायाम से लाभ होता है ।


Comments

Popular posts from this blog

अपने जन्माष्टमी समारोह को थोड़ा खास बनाएं

 जन्माष्टमी का उत्सव भगवान कृष्ण को उनकी संपूर्णता में आमंत्रित करने के लिए समर्पित है। घटना की प्रशंसा करने के हर किसी के अपने विशेष तरीके होते हैं, वैसे भी, कुछ समारोह ऐसे होते हैं जो सामान्य होते हैं। निम्नलिखित कुछ ऐसे रिवाज़ हैं जिन्हें आप जश्न मनाने और उत्सव में कुछ और हिस्सा लेने के लिए कर सकते हैं।  दिन की छुट्टी पर उपवास शुरू करें -  उपवास जन्माष्टमी अवसर के सबसे मौलिक और सर्वव्यापी टुकड़ों में से एक है। आप आम तौर पर उत्सव की अधिक प्रशंसा करने के लिए घटना पर एक त्वरित नोटिस कर सकते हैं।  गुच्छा प्रतिबिंब धुनों और सेरेनेड्स में भाग लें -    गायन कीर्तन, या प्रतिबद्धता, महिमा, या प्रशंसा की धुन, जन्माष्टमी उत्सव का एक और महत्वपूर्ण घटक है। इस तथ्य के अलावा कि यह मूर्खता और प्रतिबिंब है, यह वास्तव में एक उत्सव के एक टुकड़े की तरह महसूस करने का कारण बनता है। इसी तरह, कीर्तन व्यक्तियों को एकजुट करते हैं।  अभयारण्य के लिए पुष्पांजलि और विभिन्न डिजाइनों की योजना बनाएं -    इस अवसर के सख्त और खुश घटकों में भाग लेने के लिए अपने घर या अपने पड़ोसी में अभयारण्य को सजाने में सहायता कर

Aate ke laddu banane ke tarike | आटे के लडडू के बारे में कुछ खास तरीके

Aate ke laddu banane ke tarike | आटे के लडडू के बारे में कुछ खास तरीके   आज हम आप को ठण्ड के मोसम में खाने वाले आटे के लडडू के बारे में कुछ खास बातें बताएंगे और उन को बनाने का तरीका भी आइए जानते हैं ।             इस ठण्ड के मौसम में बहुत तरह के लडडू बनाये जाते हैं जैसे चावल के आटे के लडडू और गैहू के आटे के लडडू और गौद के लडडू  और भी विभिन्न प्रकार के पकवान त्योहारों पर हमारे भारत में बनाए जाते हैं । लेकिन मैं आज आपके एक एसे लडडू बनाने के बारे में बताये गै जो आप ने कभी नहीं बनाये होगे यह लडडू ठण्ड के मोसम में हमारे लिए बहुत गुणकारी होते हैं कयोकि इन लडडू को बनाने में कुछ खास चीजें लगतीं है जो हमारे शरीर के लिए बहुत गुणकारी होती है कयोकि अकेले आटे के लडडू खाने से हमारे शरीर को कोई ताकत नही मिलती वो तो हम ठण्ड में खाने के लिए बना लेते हैं । आज में जो लडडू बनाने के बारे में बताऊँ गी वह हमारे लिए एक दवाई काम करते हैं ।             यह लडडू बनाने के लिए हम काले चननो का आटा लेगें यह आटा काले चननो को साबित पीस कल लेगें हमे बेसन नहीं लेना हमें साबुत काले चननो को घर पर पीस लेना है या फिर बाहर किस

सफेद दाग क्या होता है - सफेद दाग होने के कारण ,सफेद दाग का आयुर्वेदिक इलाज...

सफेद दाग क्या होता है - दोस्तों! सफेद दाग जन्म के बाद आने वाला स्किन प्रॉब्लम है जिसमें हमारी स्किन में जो कलर देने वाली पेशियां होती हैं वह मर जाती हैं हमारे स्कीम पर मिल्की वाइट या दूध जैसे सफेद दाग आने लगते हैं और हमारे स्क्रीन के लेयर में जो मेलानोसाइट्स नाम की जो पेशी होती है जो आपकी स्किन को कलर देती है यह मेलेलिन साइड जो रहती है वह मेलेलिन नाम की पिगमेंट बनाती है यह वेल्डिंग पिगमेंट की वजह से ही हमारे स्कूल में जो भी कलर है वह आता है इस मेलेलिन पिगमेंट की आपकी स्किन में होने वाले मात्रा के अनुसार है आपका स्क्रीन का जो कलर है वह निर्धारित होता है मेलेनिन पिगमेंट जब स्किन में ज्यादा होता है तब स्किन का कलर डार्क ब्राउन या सांवली दिखती है और अगर यह मेलेलिन पिगमेंट कम होता है तो आप की स्कीन गोरी या फिर दिखती है । सफेद दाग के शुरुआती लक्षण -  दोस्तों! इस रोग में रोगी को किसी तरह की दिक्कत तो नहीं होती है मगर सफेद दाग चेहरे और हाथ पैर पर दिखाई देते हैं जिसके कारण रोगी कुरुप नजर आता है इस कारण रोगी तनाव हीन भावना और डिप्रेशन में रहता है रोगी की स्क्रीन पर छोटे-छोटे सफेद धब्बे दिखाई देत

lampi virus से अपनी गाय को बचाने के लिए निम्न प्रकार की सावधानियां रखें आइए जानते हैं कैसे...

lampi virus   आज पूरे भारतवर्ष में हमारी गाय माता पर हावी है जिसकी वजह से हमारी गायों को अत्यधिक नुकसान हो रहा है और हमारे किसान कुछ नहीं कर पा रहे हैं लेकिन आज हम जानेंगे लंबी वायरस से अपने गायों को बचाने के लिए कुछ बेहतरीन सावधानियां जिनसे कुछ चांस कम हो जाएंगे lampi virus होने के आइए जानते हैं -- साफ सफाई का रखें ध्यान - अगर गायों को रखने वाला जगह साफ सुथरा नहीं है तो वहां से गायों को इन्फक्शन होने की संभावना बढ़ जाती है इसलिए कोशिश करेगी गायों को रखने वाले स्थान यानी कि तबेला साफ सुथरा रखें और अगर वहां पर कीचड़ हमेशा बना रहता है तो उस कीचड़ में मिट्टी का तेल अवश्य डालें या उसकी जड़ में मिट्टी के तेल का छिड़काव करें इससे कीचड़ में किसी भी तरह की बैक्टीरिया और वायरस नहीं बनेंगे ! खानपान हरियाली - समय के साथ हर जियो अपनी धीरे-धीरे पोलूशन बड़ी दुनिया में अपनी पाचन क्रिया को होता जा रहा है खेतों में अच्छी प्रकार हरियाली लाने के लिए यूरिया डाई कार्बोनेटेड क्या दिखा दो का उपयोग किया जा रहा है जो हमारे सेहत के लिए कहीं न कहीं अच्छा नहीं है यहां हम बात उन किसानों की कर रहे हैं जो कई लोग बा

एलर्जी खांसी की आयुर्वेदिक दवा

 एलर्जी क्या होता है -  दोस्तों सामान्य था जो एलर्जी होती है ऐसा होता है कि हमारे शरीर में कई तरह के बैक्टीरिया और वायरस प्रवेश करते हैं रोजमर्रा में जिंदगी में जो यह वायरस और बैक्टीरिया होते हैं इनको हमारी बॉडी की इम्यून सिस्टम पहचानती है और इन के विरुद्ध आक्रमण करती है और किसके द्वारा वह वायरस और बैक्टीरिया को खत्म कर देती है जिससे कि शरीर पर विपरीत प्रभाव ना पड़े और शरीर को नुकसान नहीं पहुंचे लेकिन गड़बड़ वहां हो जाती है जहां शरीर की इम्यून सिस्टम कमजोर होती है ऐसी कुछ चीजें रहती हैं जो हमारे शरीर की दोस्त रहती हैं लेकिन वह दोस्त नहीं दुश्मन समझ लेती है जैसे कि हवा में उड़ के नाक के द्वारा अंदर जाने वाले एनिमल डेंजेल होते हैं कई अलग-अलग प्राणी होते हैं जैसे कि डॉग हुआ गाय हुई इस तरह से इनकी शरीर से बारीक- बारीक रेशे निकलते हैं जो सूखकर नाक के द्वारा अंदर जाते हैं सामान्यतः तो यह सभी को जाते हैं लेकिन कुछ लोगों में यह शरीर की जो इम्यून सिस्टम है उससे रिएक्ट करना शुरू कर देती है और वह रिएक्शन होता है उसी हम एलर्जी कहते हैं और सामान्यतः यह जो एलर्जी है वह 3- 4 तरह की एलर्जी होती है

तनाव से छुटकारा कैसे प्राप्त करें | तनाव मुक्त जीवन जीने के कुछ सरल उपाय

 तनाव से छुटकारा कैसे प्राप्त करें | तनाव मुक्त जीवन जीने के कुछ सरल उपाय Oknews आजकल की भाग दौड़ भरी जिंदगी में तनाव हमारे जीवन का एक हिस्सा बन गया है और हर कोई तनाव मुक्त जीवन जीने की उपाय ढूंढ रहा है आपकी जानकारी के लिए बता दूं मैं कि तनाव को हमने अपने जीवन का हिस्सा बना लिया है हम हमेशा एक समान जिंदगी जीते हैं बस हमारे मन के विचार अलग रहते हैं और जीवन जीने का संदर्भ अलग होता है अगर हम मन में सोच कुछ और रहे हैं और कर कुछ और रहे हैं तो यह तनाव को जन्म देता है और हम अपने कार्य को अच्छी तरीके से नहीं कर पाते और जो हमने सोच रखा है मन में उस में भी सफलता न मिलने के कारण तनाव बढ़ने लगता है । बात करें कुछ जीवन के उन पलों की जिस पल में इंसान किसी व्यक्ति से प्यार करता है उस दौरान भी वह उसी प्रकार की जिंदगी जीता है बस उसके मन के संदर्भ उस समय अलग होते हैं जिसकी वजह से वह अपने जीवन में संतुष्ट और खुश हो जाता है । अपने जीवन में हो रहे हर उतार-चढ़ाव को समझें अपने आप को समझे कि आप अपनी मन मुताबिक कार्य कर रहे हो हैं या नहीं आप कुछ ऐसा काम सुन सकते हैं जिससे मानव जगत का कुछ भला भी हो और आपके पास

घुटने का दर्द क्यों होता है - घुटने का दर्द कौन-कौन सी बीमारियों में ज्यादा होता है ! | घुटने के दर्द का सामाधान ...

  घुटने का दर्द क्यों होता है - दोस्तों यहां हम जानेंगे कि घुटने का दर्द क्यों होता है, दोस्तों या बड़ा प्रश्न है हमारा घुटना जो कि 3 हड्डियों से मिलकर बना होता है ऊपर वाली हड्डी जिसे थाई बोन बोलते हैं और नीचे वाली हड्डी जिसे लेग बोन बोलते हैं और आगे की तरफ हड्डी जिसे पटेला बोन बोलते हैं यह तीनों हड्डियां जहां मिलती हैं उसे ही घुटनों का जोड़ कहा जाता है इन तीनों के ऊपर एक चिकनी पॉलिश लेयर होती है जिससे की जब भी इन तीनों हड्डियों में मोमेंट हो यह एक दूसरे से रगड़ नहीं खाती हैं ! दोस्तों जैसे जैसे हमारी उम्र बढ़ती है वैसे-वैसे किसी भी कारण से जैसे कि चोट के कारण, जेनेटिक कारणों या बस बुढ़ापे के कारण यह पॉलिश धीरे -धीरे से घिसने लगता है और हड्डी हड्डी से टकराकर दर्द देने लग जाता है घुटनों में दर्द होने का यह एक बहुत ही बड़ा कारण है कभी-कभी चोट लगने के कारण भी घुटने में दर्द पैदा हो जाता है या कभी-कभी घुटनों में किसी प्रकार का सूजन भी घुटनो के दर्द का कारण बन सकता है। घुटने का दर्द कौन-कौन सी बीमारियों में ज्यादा होता है ! पहला कारण है   बुढ़ापे में घुटने में किसी प्रकार का परिवर्तन होना य

बवासीर क्या है - बवासीर की आयुर्वेदिक दवा हैं...

  बवासीर क्या है -  दोस्तों मैं वैसे जो है एक बहुत ही सामान्य समस्या है यह पुरुषों तथा महिलाओं में लगभग बराबर मात्रा में होती है जो लैट्रिन का रास्ता होता है उसमें जब स्वेलिंग आ जाती है फिर कोई प्रॉब्लम होती है तभी हमें पता लगता है कि हमें पाइल्स या बवासीर की समस्या है बवासीर में खून का गुच्छा होता है उस खून के गुच्छे में खून इकट्ठा हो जाएगा तो वह बवासीर का रूप ले लेगा । लगभग 50% मरीज जिनको बवासीर की समस्या होती है उनको ब्रीडिंग की प्रॉब्लम भी होती है विज्ञान ऐसा मानती है कि 50 साल की उम्र के बाद 50% जो पापुलेशन है वह बवासीर की समस्याओं से ग्रसित हो जाते हैं यानी अगर आपकी उम्र 50 साल से ज्यादा हो जाती है तो आपको बवासीर होने की संभावना बढ़ जाती है। ऐसा माना जाता है कि पाइल्स प्रेग्नेंट महिलाओं को ज्यादा होता है ! पाइल्स क्या है -  वास्तव में जो हमारा लाइटिंग का रास्ता होता है उसमें खून की नसों के गुच्छे होते हैं यह कॉमन है या सभी को होते हैं लेकिन समय के साथ जैसे-जैसे समय बढ़ते जाता है लैट्रिन के रास्ते में ज्यादा ताकत लगाने के कारण यह जो खून के नसों के गुच्छे हैं वह फूल जाते हैं जब यह

यूरिन इन्फेक्शन की आयुर्वेदिक दवा | यूटीआई से बचने के उपाय ...

  यूरिन इन्फेक्शन क्या है -  यूरिन इन्फेक्शन को यूटीआई भी कहते हैं जिसका मतलब होता है यूरिन ट्रैक इंफेक्शन। यानी कि जो हमारा यूरिन का मार्ग है जो कि किडनी से स्टार्ट होता है किडनी के बाद जो यूरिटल नलिया होती हैं और जो यूरिनरी ब्रेडल होता है और उसके बाद जो यूरिनरी वेसल होता है जिसके माध्यम से यूरिन बाहर निकलता है इस पूरे सिस्टम में जब कहीं पर भी इंफेक्शन हो जाता है तो उसको यूरिनरी ट्रैक इंफेक्शन बोलते हैं ! यूरिन इन्फेक्शन का कारण -  दोस्तों ! आइए हम यहां थोड़ा सा यूरिन इंफेक्शन के कारण के बारे में भी जान लेते हैं अगर हम आयुर्वेदिक भाषा में कहें तो आमतौर पर जब यूरो यूरिनरी ट्रैक में ज्यादा गर्मी हो जाएगी क्योंकि हम अक्षर आमतौर पर देखते हैं कि यूरिन इन्फेक्शन में जलन की समस्या होती है दर्द की समस्या होती है इसीलिए आयुर्वेद में कहा जाता है कि यदि आपका पित्त ज्यादा बढ़ेगा तो आपको यूटीआई की समस्या हो सकती है ! इसीलिए पित्त वर्धक भोजन जैसे मिर्च मसालेदार खाना तला हुआ तला हुआ बहुत ज्यादा तीखा, खट्टा या चाय, कॉफी, अल्कोहल स्मोकिंग यह सब यूरिन इन्फेक्शन के कारण होते हैं और कुछ लोग कम पानी पीते