Skip to main content

नवरात्रि पुजा ,Navratri Puja

 नवरात्रि पुजा

Oknews

 हमारे भारत  बहुत सारे तयोहार मनाये की परम्परा है। जिन में से नवरात्रि की पुजा भी बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। यह नवरात्रि साल में दो बार आते हैं। पहले मार्च के महीने में, दुसरा अकतूबर के महीने में। माता के इन नवरात्रि का बहुत महत्व होता है। नवरात्रि में आदि शक्ति माता के नौं रुपों की पुजा की जाती है। माता के इन नौं रूपों को नवदुर्गा के नाम से भी जाना जाता है।

माता के नौं रूपों के नाम पहला= शैलपुत्री (पीला) 
दुसरा= ब्रहमचारिणी(हरा) तीसरा=चंद्रघंटा ( घुसर) चौथा=कुषमडां (नारंगी) पाचवा=सकंदमाता ( सफेद) छटा= कातयायनी ( लाल) सातवां= कालरात्रि ( नीला) आठवाँ=महागौरी ( गुलाबी) नौंवी=सिदिदात्री( बैंगनी)
नवरात्रि के नौं दिन में माता के नौं रूपों का अलग अलग महत्व है। नवरात्रि के पहले दिन शैलपुत्री की पुजा होती है। यह पर्वत राज्य की पुत्री हैं। इनकी पुजा से प्राणी मनवांछित फल प्राप्त करता है। दुसरा दिन माता ब्राह्ममचारिणी का है। इनकी पुजा से मनुष्य के कष्टों का निवारण होता है। तिसरा दिन माता चंद्रघंटा का है इनके माथे पर चंद के आकार का अधचर्क है इनकी पुजा से अहंकार का नाश होता है। इनके घंटे में शिमला होती है।


Oknews

 चोथा दिन माता कुषमडां की पुजा का होता है। इनकी पुजा से रोग दुर होते हैं। पाचवा दिन माता सकंदमाता का होता है। यह र्कातिक की माता है। इनकी पुजा से सुख शांति की प्राप्ति होती है। छटा दिन माता कातयायनी माता का होता है। इनकी पुजा से भगत का काम सरल होता है। सातवां दिन माता कालरात्रि का होता है। यह काल का नाश करती है। आठवाँ रूप महागौरी का होता है। इनकी पुजा से असमर्थ काम सरल होता है। नौवें दिन माता सिद्भीदात्री माता का होता है इनकी पुजा से मनुष्य सिद्भी प्राप्त करता है।

Oknews
पुजा विधी : 

 पुजा के सथान पर एक चौकी रखो। उसके ऊपर एक लाल रंग का कपड़ा बिछा दो। फिर उन पर चावल रखो। चावल के ऊपर पानी का कलश रखो। र्दुगा माता की तस्वीर रखो। पानी के कलश में गंगा जल, चावल आम के पते रखो, कलश पर मोलवी बांध दो। कलश और माता की तस्वीर मर तिलक लगाकर धूप और जोत जला दो। एक नारियल भी रखो।एक कलश में जौं भी उगाया जाते हैं। 


फिर हाथ में थोड़ी से चावल लेकर माता से अपने मन की मनोकामना मांग लो नौं दिन तक अखंड ज्योति जलाकर अपने व्रत को पुरा करो। नौवें दिन माता की पुजा करने के बाद अपने घर में माता के नौं रूपों को अथात नौं कंजगों को खाना खिला कर अपने व्रत को समपूरण करो कंजगों के खाने में हलवा, पुरी, बना कर खिलाना होता है। और खुद भी वही भोजन खा कर अपने व्रत को खोलना होता है।

Oknews

Comments

Popular Posts

Oknews - Business and Financial | बिटकॉइन किसने बनाया? ,Who created Bitcoin? बिटकॉइन को बनाने का कारण जो आज एक बिग फाइनैंशल टोकन बन चुका है आइए जानते हैं...?

  बिटकॉइन किसने बनाया?  बिटकॉइन "क्रिप्टोक्यूरेंसी" नामक एक विचार का नंबर एक कार्यान्वयन है, जिसे पहली बार 1998 में साइबरपंक मेलिंग सूची में वेई दाई का उपयोग करके वर्णित किया गया था, जो पैसे के एक नए आकार के विचार का सुझाव देता है जो क्रिप्टोग्राफी का उपयोग अपने आगमन और लेनदेन में हेरफेर करने के लिए करता है।  , एक सरकार की इच्छा में।  पहला बिटकॉइन विनिर्देश और विचार का प्रमाण 2009 में सातोशी नाकामोटो के उपयोग के माध्यम से एक क्रिप्टोग्राफी मेलिंग सूची में प्रकाशित हुआ है।  सातोशी ने 2010 के अंत में अपने बारे में जनता को बताए बिना उद्यम छोड़ दिया।  नेटवर्क उस सच्चाई पर विचार कर रहा है जो बिटकॉइन पर चल रहे कई बिल्डरों के साथ तेजी से बढ़ी है। Who created Bitcoin? Oknews oknews oknews oknews oknews

योग क्या है, योग के माध्यम से अपने सभी चक्रों को जागृत करने के तरीके

योग के माध्यम से अपने सभी चक्रों को  जागृत करने के तरीके Oknews.in योग व माध्यम है जिससे हम स्वयं से अवगत होते हैं तथा स्वयं की सारी शक्तियों का अनुभव तथा प्रयोजन सीखते हैं योग से मानव जीवन की सभी सीमित असीमित उपलब्धियों का ज्ञान होता है !  Oknews.in अध्यात्म जीवन बहुत ही सुंदर और शांतिपूर्ण जीवन होता है मनुष्य के शरीर में बहुत सारे ऐसे दिव्य शक्तियां हैं जिनका उसे एहसास भी नहीं है आज आपके शरीर में इन सभी शक्तियों के भागों का अध्ययन करेंगे  Oknews.in मनुष्य के शरीर में अलग-अलग ऊर्जा स्तर के आधार पर चक्र के रूप में ऊर्जा को दर्शाया गया है इंसान के शरीर में सात ऊर्जा चक्र होते हैं जिनमें से पहला है मूलाधार चक्र :   मूलाधार चक्र क्या मनुष्य के मल द्वार और लिंग के बीचो बीच चार पत्ती वाला एक चक्र होता है इसे आधार चक्र के नाम से भी जाना जाता है और 99% लोगों की चेतना इसी आधार चक्र में रहकर अपना पूरा जीवन व्यतीत कर लेती है और वह इस चक्र में ही रह कर अपना जीवन यापन कर लेते हैं  Oknews.in दूसरे शब्दों में कहें तो जो लोगों के जीवन में भूख संभोग और नींद को अधिक महत्वपूर्ण मानते हैं या अधिकतर इन क

Oknews - Health | बालों के झड़ने को रोकने के लिए निम्न उपाय तथा बालों को मजबूत करने के कुछ घरेलू उपाय

  बालों के झड़ने को रोकने के लिए निम्न उपाय तथा बालों के झड़ने के कारण या कुछ गलतियां जिनकी वजह से बाल झड़ते हैं आजकल की रोजमर्रा के लाइफस्टाइल में बहुत सारे बदलाव ऐसे हुए जिनसे हमारी शारीरिक विकास तथा जरूरी पोषक तत्व जो हमारे शरीर के लिए अत्यंत आवश्यक है उनसे हम काफी दूर हो चुके हैं बालों का झड़ना निम्न प्रकार से रोका जा सकता है तथा कुछ लक्षण हैं जिनकी वजह से बाल झड़ते हैं आइए जानते हैं बालों के झड़ने के कारण लीवर का कमजोर होना दातों तथा हड्डियों में कमजोरी आना पाचन तंत्र ठीक तरीके से काम ना करना शरीर के हर वह इंटरनल ऑर्गन जो भोजन को सुचारू रूप से पचाने का कार्य करते हैं उनका सही तरह से कार्य न करना यह उन्हें सही पोषक तत्व ना मिल पाना यह सभी कारण शरीर में फाइबर की कमी तथा एंटीऑक्सीडेंट की कमी की वजह से होने लगती है और फिर यह कमियां हमारे शरीर के कोलेजन द्वारा पूर्ति की जाती है और शरीर में कोलेजन की कमी हो जाती है जिसकी वजह से हमारे शरीर के हर एक अंग पर इसका असर दिखने लगता है । अक्सर यह ज्यादा प्रॉब्लम महिलाओं के अंदर आता है क्योंकि महिलाओं के अंदर पानी की कमी तथा हिमोग्लोबिन की कमी ज्