Skip to main content

HBL IPS panel ( integrated power supply ) HBL power System Ltd.

HBL power System Ltd


यह कंपनी विभिन्न सेक्टर में वर्क करती है यहां हम बात करेंगे पावर सेक्टर में जोकि रेलवे के लिए पावर पैनल प्रदान करती है रेलवे में HBL कंपनी का पावर पैनल बहुत ही काम आता है ! रेलवे में जो Power panel देती है  उसे IPS कहते हैं IPS (integrated power supply ) पैनल के द्वारा रेलवे में indoor and outdoor मे सप्लाई को पहुंचाते हैं । जिनमें से कुछ निम्न प्रकार से हैं -
  • ऑल अप डाउन सिगल
  • ऑल पॉइंट मशीन एंड पॉइंट इंडिकेशन
  • ऑल ट्रक सर्किट चार्जर
  • सिगनल रिले एंड करंट रिले
  • डाटा लोगर पोटेंशियल फ्री कांटेक्ट
  • रिले रूम etc.

IPS panel installation - 

Ips panel को इंस्टॉल करते समय कुछ निम्न बातों का ध्यान रखना बहुत ही आवश्यक है -
  • आईपीएस पैनल जमीन से इंसुलेटेड हो । 
  • आईपीएस पैनल में एक-दूसरे पैनल से सिर्फ 6 इंच का गैप हो ।
  • आईपीएस पैनल इंस्टॉल करते समय आईपीएस के आगे 2 मीटर की जगह और पीछे की तरफ 1 मीटर की जगह और साइड में एक 1 मीटर की जगह दोनों तरफ होना अनिवार्य है ।

IPS panel power on guidelines -

IPS panel को जमीन में अच्छी तरह फिक्स करने के बाद अब सारे मॉडलों की फिजिकल चेकिंग कर ले और सबको पैनल में अच्छी प्रकार से इनपुट आउटपुट और अर्थ के वायर कनेक्ट कर दें और आईपीएस पैनल को ऑन करते समय कुछ निम्न बातों का अवश्य ध्यान दें -
  • सबसे पहले यह सुनिश्चित करें कि पैनल को दिए जाने वाला अर्थ सही है या नहीं । जितने भी अर्थ जंक्शन हैं सब कॉपर वेल्डेड होने चाहिए ।
  • पैनल को दिए जाने वाला अर्थ 1 ओम से कम होना चाहिए ।
  • आउटडोर और इंडोर की जितनी भी सप्लाई पैनल में कनेक्टेड है उसे सुनिश्चित करें कि वह कहीं आगे शार्ट तो नहीं हो रही है ।
  • ध्यान देने वाली बात यह है कि 230 सप्लाई मिलने पर न्यूट्रल और अर्थ के रिस्पेक्ट में मिलने वाला वोल्टेज हमेशा 4 वोल्ट से कम होना चाहिए ।
  • पैनल को ऑन करते समय मैक्सिमम 230 सप्लाई में ड्रॉपर्स 30 वोल्ट का होना चाहिए उससे अधिक होने पर सप्लाई की जांच करें ।

IPS POWER Panel की कुछ तस्वीरें  -




 क्या करें और क्या न करें :

Do'S -

  • एसी मेन को सिस्टम से जोड़ने से पहले सभी एमसीबी को ऑफ पोजीशन में रखें। 
  • सुनिश्चित करें कि सभी पैनल ठीक से लगाए गए हैं; अर्थिंग प्रतिरोध <2ohm आईपीएस सिस्टम अर्थ पॉइंट टू अर्थ पिट के बीच होना चाहिए। 
  • सुनिश्चित करें कि सभी केबलों को ठीक से कस दिया गया है। टर्मिनल ब्लॉक (TB1) को इनपुट करने के लिए AC मेन्स को उचित क्रम के साथ कनेक्ट करें यानी 10 इनपुट के लिए P, N & E। 
  •  बैटरी को जोड़ने से पहले, सभी उप-मॉड्यूल के प्रदर्शन की व्यक्तिगत रूप से जांच करें (एफआरबीसी / इन्वर्टर / डीसी - डीसी कनवर्टर / एवीआर और स्टेप डाउन ट्रांसफॉर्मर)। 
  •  सभी स्विच/एमसीबी को बंद स्थिति में रखते हुए बैटरी कनेक्ट करें।
  • बैटरी को सही ध्रुवता (+ VE से RED, -VE से BLACK) के साथ कनेक्ट करें और देखें कि HBL / PE / IPS / BTY - 001 - D01 H01 कार्ड में BTY सुनिश्चित करने के लिए ग्रीन एलईडी चमक रही है या नहीं, ठीक से कनेक्ट नहीं है। सुनिश्चित करें कि सभी लोड न्यूनतम अनुशंसित केबल आकार के माध्यम से आईपीएस से जुड़े हैं। एसी और डीसी केबल्स को अलग-अलग बांधा जाना है और रूटिंग ठीक से की जानी है।
Dont's -

  •  यदि लाल एलईडी (बीटीवाई। रिवर्स इंडिकेशन) एचबीएल/पीई/आईपीएस/बीटीवाई-001-डी01 कार्ड का  एफआरबीसी रैक में चमकती है, तो सिस्टम पर स्विच न करें। (हरे रंग की एलईडी चमकने तक तारों को ठीक करें।) 
  • बैटरी को पूरी तरह से चार्ज किए बिना लोड को खिलाने की अनुमति न दें। (बैटरी के पूरी तरह चार्ज होने की शर्त यह है कि आईपीएस नियंत्रण में कूलम्ब काउंटर सेट एएच क्षमता के समान होना चाहिए)। 
  •  यदि न्यूट्रल और पृथ्वी के बीच वोल्टेज> 4VAC है, तो IPS सिस्टम पर स्विच न करें। 
  •  स्टार्ट जेनसेट अलार्म को इग्नोर न करें। यह बीटीवाई के गहरे निर्वहन से बचने में मदद करता है। और लंबा जीवन देता है। जब तक साइट पर आवश्यक न हो फैक्ट्री सेट वोल्टेज / करंट को डिस्टर्ब न करें। (समायोजन निर्देश या मार्गदर्शन के लिए मैनुअल देखें)। मॉड्यूल्स को खोलकर उन्हें स्वयं सेवा देने का प्रयास न करें .

Battery connection with power panel -

रेलवे में पावर पैनल के साथ दो प्रकार की बैटरी कनेक्ट की जाती है जिनके नाम हैं -

VRLA  --  VALVE REGULATED LEAD Acid
LMLA --  LOW MAINTENANCE LEAD Acid


IPS power पैनल के साथ हमेशा 55 बैटरी प्रयोग में ली जाती है और हर बैटरी 2 वोल्ट की होती है और अगर बात करें इनके एंपियर हावर की तो या कहीं पर 200ah और कहीं पर 300ah प्रयोग में ली जाती है !
  • VRLA बैटरी का कनेक्शन करते समय निम्न प्रकार की ध्यान देने योग्य बातें हैं -
  • बैटरी के स्टैंड को इंसुलेटेड रखें और बैटरी को अच्छे से कॉपर पट्टी द्वारा टाइट करें ध्यान रहेगी लूज कनेक्शन ना हो।
  • 55 सेल को कनेक्ट करने के लिए यह स्टैंडर्ड डायग्राम है जो चित्र में आप देख सकते हैं ।


All HBL technical full form -


AFTC AUDIO FREQUENCY TRACK CIRCUIT
AVR AUTOMATIC VOLTAGE REGULATOR
AMF PANEL AUTO MENS FAILURE PANEL
ASM ASSISTANT STATION MASTER
ACDP ALTERNATING CURRENT DISTRIBUTION PANEL
DSA DISTRIBUTION SWITCHING ALARM UNIT
DG Set DIESEL GENERATOR SET
DCDP DIRECT CURRENT DISTRIBUTION PANEL
DOD DEATH OF DISCHARGE
EMI ELECTROMAGNETIC INTERFERENCE
FRBC FLOAT RECTIFIER BOOST CHARGER
IPS INTEGRATED POWER SUPPLY
IS/IEC INDIAN STANDARD / INTERNATIONAL ELECTRO TECHNICAL COMMISSION
LEMP LIGHTING ELECTROMAGNETIC IMPULSE
LED LIGHT EMITTING DIODE
LCD LIQUID CRYSTAL DISPLAY
LMLA LOW MAINTENANCE LEAD ACID
VRLA VALVE REGULATED LEAD ACID
MTBF  MEN TIME BETWEEN FAILURE
MOV METAL OXIDE VARISTERS
PI PANEL INTERLOCKING
PF POWER FACTOR
PWM PULSE WITH MODULATION
RE RAILWAY ELECTRIFICATION
RFI RADIO FREQUENCY INTERFERENCE
SMPS SWITCH MODE POWER SUPPLY
SSI SOLID STATE INTERLOCKING
SPD SEARCH PROTECTION DEVICE







Comments

Popular posts from this blog

अपने जन्माष्टमी समारोह को थोड़ा खास बनाएं

 जन्माष्टमी का उत्सव भगवान कृष्ण को उनकी संपूर्णता में आमंत्रित करने के लिए समर्पित है। घटना की प्रशंसा करने के हर किसी के अपने विशेष तरीके होते हैं, वैसे भी, कुछ समारोह ऐसे होते हैं जो सामान्य होते हैं। निम्नलिखित कुछ ऐसे रिवाज़ हैं जिन्हें आप जश्न मनाने और उत्सव में कुछ और हिस्सा लेने के लिए कर सकते हैं।  दिन की छुट्टी पर उपवास शुरू करें -  उपवास जन्माष्टमी अवसर के सबसे मौलिक और सर्वव्यापी टुकड़ों में से एक है। आप आम तौर पर उत्सव की अधिक प्रशंसा करने के लिए घटना पर एक त्वरित नोटिस कर सकते हैं।  गुच्छा प्रतिबिंब धुनों और सेरेनेड्स में भाग लें -    गायन कीर्तन, या प्रतिबद्धता, महिमा, या प्रशंसा की धुन, जन्माष्टमी उत्सव का एक और महत्वपूर्ण घटक है। इस तथ्य के अलावा कि यह मूर्खता और प्रतिबिंब है, यह वास्तव में एक उत्सव के एक टुकड़े की तरह महसूस करने का कारण बनता है। इसी तरह, कीर्तन व्यक्तियों को एकजुट करते हैं।  अभयारण्य के लिए पुष्पांजलि और विभिन्न डिजाइनों की योजना बनाएं -    इस अवसर के सख्त और खुश घटकों में भाग लेने के लिए अपने घर या अपने पड़ोसी में अभयारण्य को सजाने में सहायता कर

Aate ke laddu banane ke tarike | आटे के लडडू के बारे में कुछ खास तरीके

Aate ke laddu banane ke tarike | आटे के लडडू के बारे में कुछ खास तरीके   आज हम आप को ठण्ड के मोसम में खाने वाले आटे के लडडू के बारे में कुछ खास बातें बताएंगे और उन को बनाने का तरीका भी आइए जानते हैं ।             इस ठण्ड के मौसम में बहुत तरह के लडडू बनाये जाते हैं जैसे चावल के आटे के लडडू और गैहू के आटे के लडडू और गौद के लडडू  और भी विभिन्न प्रकार के पकवान त्योहारों पर हमारे भारत में बनाए जाते हैं । लेकिन मैं आज आपके एक एसे लडडू बनाने के बारे में बताये गै जो आप ने कभी नहीं बनाये होगे यह लडडू ठण्ड के मोसम में हमारे लिए बहुत गुणकारी होते हैं कयोकि इन लडडू को बनाने में कुछ खास चीजें लगतीं है जो हमारे शरीर के लिए बहुत गुणकारी होती है कयोकि अकेले आटे के लडडू खाने से हमारे शरीर को कोई ताकत नही मिलती वो तो हम ठण्ड में खाने के लिए बना लेते हैं । आज में जो लडडू बनाने के बारे में बताऊँ गी वह हमारे लिए एक दवाई काम करते हैं ।             यह लडडू बनाने के लिए हम काले चननो का आटा लेगें यह आटा काले चननो को साबित पीस कल लेगें हमे बेसन नहीं लेना हमें साबुत काले चननो को घर पर पीस लेना है या फिर बाहर किस

सफेद दाग क्या होता है - सफेद दाग होने के कारण ,सफेद दाग का आयुर्वेदिक इलाज...

सफेद दाग क्या होता है - दोस्तों! सफेद दाग जन्म के बाद आने वाला स्किन प्रॉब्लम है जिसमें हमारी स्किन में जो कलर देने वाली पेशियां होती हैं वह मर जाती हैं हमारे स्कीम पर मिल्की वाइट या दूध जैसे सफेद दाग आने लगते हैं और हमारे स्क्रीन के लेयर में जो मेलानोसाइट्स नाम की जो पेशी होती है जो आपकी स्किन को कलर देती है यह मेलेलिन साइड जो रहती है वह मेलेलिन नाम की पिगमेंट बनाती है यह वेल्डिंग पिगमेंट की वजह से ही हमारे स्कूल में जो भी कलर है वह आता है इस मेलेलिन पिगमेंट की आपकी स्किन में होने वाले मात्रा के अनुसार है आपका स्क्रीन का जो कलर है वह निर्धारित होता है मेलेनिन पिगमेंट जब स्किन में ज्यादा होता है तब स्किन का कलर डार्क ब्राउन या सांवली दिखती है और अगर यह मेलेलिन पिगमेंट कम होता है तो आप की स्कीन गोरी या फिर दिखती है । सफेद दाग के शुरुआती लक्षण -  दोस्तों! इस रोग में रोगी को किसी तरह की दिक्कत तो नहीं होती है मगर सफेद दाग चेहरे और हाथ पैर पर दिखाई देते हैं जिसके कारण रोगी कुरुप नजर आता है इस कारण रोगी तनाव हीन भावना और डिप्रेशन में रहता है रोगी की स्क्रीन पर छोटे-छोटे सफेद धब्बे दिखाई देत

lampi virus से अपनी गाय को बचाने के लिए निम्न प्रकार की सावधानियां रखें आइए जानते हैं कैसे...

lampi virus   आज पूरे भारतवर्ष में हमारी गाय माता पर हावी है जिसकी वजह से हमारी गायों को अत्यधिक नुकसान हो रहा है और हमारे किसान कुछ नहीं कर पा रहे हैं लेकिन आज हम जानेंगे लंबी वायरस से अपने गायों को बचाने के लिए कुछ बेहतरीन सावधानियां जिनसे कुछ चांस कम हो जाएंगे lampi virus होने के आइए जानते हैं -- साफ सफाई का रखें ध्यान - अगर गायों को रखने वाला जगह साफ सुथरा नहीं है तो वहां से गायों को इन्फक्शन होने की संभावना बढ़ जाती है इसलिए कोशिश करेगी गायों को रखने वाले स्थान यानी कि तबेला साफ सुथरा रखें और अगर वहां पर कीचड़ हमेशा बना रहता है तो उस कीचड़ में मिट्टी का तेल अवश्य डालें या उसकी जड़ में मिट्टी के तेल का छिड़काव करें इससे कीचड़ में किसी भी तरह की बैक्टीरिया और वायरस नहीं बनेंगे ! खानपान हरियाली - समय के साथ हर जियो अपनी धीरे-धीरे पोलूशन बड़ी दुनिया में अपनी पाचन क्रिया को होता जा रहा है खेतों में अच्छी प्रकार हरियाली लाने के लिए यूरिया डाई कार्बोनेटेड क्या दिखा दो का उपयोग किया जा रहा है जो हमारे सेहत के लिए कहीं न कहीं अच्छा नहीं है यहां हम बात उन किसानों की कर रहे हैं जो कई लोग बा

एलर्जी खांसी की आयुर्वेदिक दवा

 एलर्जी क्या होता है -  दोस्तों सामान्य था जो एलर्जी होती है ऐसा होता है कि हमारे शरीर में कई तरह के बैक्टीरिया और वायरस प्रवेश करते हैं रोजमर्रा में जिंदगी में जो यह वायरस और बैक्टीरिया होते हैं इनको हमारी बॉडी की इम्यून सिस्टम पहचानती है और इन के विरुद्ध आक्रमण करती है और किसके द्वारा वह वायरस और बैक्टीरिया को खत्म कर देती है जिससे कि शरीर पर विपरीत प्रभाव ना पड़े और शरीर को नुकसान नहीं पहुंचे लेकिन गड़बड़ वहां हो जाती है जहां शरीर की इम्यून सिस्टम कमजोर होती है ऐसी कुछ चीजें रहती हैं जो हमारे शरीर की दोस्त रहती हैं लेकिन वह दोस्त नहीं दुश्मन समझ लेती है जैसे कि हवा में उड़ के नाक के द्वारा अंदर जाने वाले एनिमल डेंजेल होते हैं कई अलग-अलग प्राणी होते हैं जैसे कि डॉग हुआ गाय हुई इस तरह से इनकी शरीर से बारीक- बारीक रेशे निकलते हैं जो सूखकर नाक के द्वारा अंदर जाते हैं सामान्यतः तो यह सभी को जाते हैं लेकिन कुछ लोगों में यह शरीर की जो इम्यून सिस्टम है उससे रिएक्ट करना शुरू कर देती है और वह रिएक्शन होता है उसी हम एलर्जी कहते हैं और सामान्यतः यह जो एलर्जी है वह 3- 4 तरह की एलर्जी होती है

तनाव से छुटकारा कैसे प्राप्त करें | तनाव मुक्त जीवन जीने के कुछ सरल उपाय

 तनाव से छुटकारा कैसे प्राप्त करें | तनाव मुक्त जीवन जीने के कुछ सरल उपाय Oknews आजकल की भाग दौड़ भरी जिंदगी में तनाव हमारे जीवन का एक हिस्सा बन गया है और हर कोई तनाव मुक्त जीवन जीने की उपाय ढूंढ रहा है आपकी जानकारी के लिए बता दूं मैं कि तनाव को हमने अपने जीवन का हिस्सा बना लिया है हम हमेशा एक समान जिंदगी जीते हैं बस हमारे मन के विचार अलग रहते हैं और जीवन जीने का संदर्भ अलग होता है अगर हम मन में सोच कुछ और रहे हैं और कर कुछ और रहे हैं तो यह तनाव को जन्म देता है और हम अपने कार्य को अच्छी तरीके से नहीं कर पाते और जो हमने सोच रखा है मन में उस में भी सफलता न मिलने के कारण तनाव बढ़ने लगता है । बात करें कुछ जीवन के उन पलों की जिस पल में इंसान किसी व्यक्ति से प्यार करता है उस दौरान भी वह उसी प्रकार की जिंदगी जीता है बस उसके मन के संदर्भ उस समय अलग होते हैं जिसकी वजह से वह अपने जीवन में संतुष्ट और खुश हो जाता है । अपने जीवन में हो रहे हर उतार-चढ़ाव को समझें अपने आप को समझे कि आप अपनी मन मुताबिक कार्य कर रहे हो हैं या नहीं आप कुछ ऐसा काम सुन सकते हैं जिससे मानव जगत का कुछ भला भी हो और आपके पास

घुटने का दर्द क्यों होता है - घुटने का दर्द कौन-कौन सी बीमारियों में ज्यादा होता है ! | घुटने के दर्द का सामाधान ...

  घुटने का दर्द क्यों होता है - दोस्तों यहां हम जानेंगे कि घुटने का दर्द क्यों होता है, दोस्तों या बड़ा प्रश्न है हमारा घुटना जो कि 3 हड्डियों से मिलकर बना होता है ऊपर वाली हड्डी जिसे थाई बोन बोलते हैं और नीचे वाली हड्डी जिसे लेग बोन बोलते हैं और आगे की तरफ हड्डी जिसे पटेला बोन बोलते हैं यह तीनों हड्डियां जहां मिलती हैं उसे ही घुटनों का जोड़ कहा जाता है इन तीनों के ऊपर एक चिकनी पॉलिश लेयर होती है जिससे की जब भी इन तीनों हड्डियों में मोमेंट हो यह एक दूसरे से रगड़ नहीं खाती हैं ! दोस्तों जैसे जैसे हमारी उम्र बढ़ती है वैसे-वैसे किसी भी कारण से जैसे कि चोट के कारण, जेनेटिक कारणों या बस बुढ़ापे के कारण यह पॉलिश धीरे -धीरे से घिसने लगता है और हड्डी हड्डी से टकराकर दर्द देने लग जाता है घुटनों में दर्द होने का यह एक बहुत ही बड़ा कारण है कभी-कभी चोट लगने के कारण भी घुटने में दर्द पैदा हो जाता है या कभी-कभी घुटनों में किसी प्रकार का सूजन भी घुटनो के दर्द का कारण बन सकता है। घुटने का दर्द कौन-कौन सी बीमारियों में ज्यादा होता है ! पहला कारण है   बुढ़ापे में घुटने में किसी प्रकार का परिवर्तन होना य

बवासीर क्या है - बवासीर की आयुर्वेदिक दवा हैं...

  बवासीर क्या है -  दोस्तों मैं वैसे जो है एक बहुत ही सामान्य समस्या है यह पुरुषों तथा महिलाओं में लगभग बराबर मात्रा में होती है जो लैट्रिन का रास्ता होता है उसमें जब स्वेलिंग आ जाती है फिर कोई प्रॉब्लम होती है तभी हमें पता लगता है कि हमें पाइल्स या बवासीर की समस्या है बवासीर में खून का गुच्छा होता है उस खून के गुच्छे में खून इकट्ठा हो जाएगा तो वह बवासीर का रूप ले लेगा । लगभग 50% मरीज जिनको बवासीर की समस्या होती है उनको ब्रीडिंग की प्रॉब्लम भी होती है विज्ञान ऐसा मानती है कि 50 साल की उम्र के बाद 50% जो पापुलेशन है वह बवासीर की समस्याओं से ग्रसित हो जाते हैं यानी अगर आपकी उम्र 50 साल से ज्यादा हो जाती है तो आपको बवासीर होने की संभावना बढ़ जाती है। ऐसा माना जाता है कि पाइल्स प्रेग्नेंट महिलाओं को ज्यादा होता है ! पाइल्स क्या है -  वास्तव में जो हमारा लाइटिंग का रास्ता होता है उसमें खून की नसों के गुच्छे होते हैं यह कॉमन है या सभी को होते हैं लेकिन समय के साथ जैसे-जैसे समय बढ़ते जाता है लैट्रिन के रास्ते में ज्यादा ताकत लगाने के कारण यह जो खून के नसों के गुच्छे हैं वह फूल जाते हैं जब यह

यूरिन इन्फेक्शन की आयुर्वेदिक दवा | यूटीआई से बचने के उपाय ...

  यूरिन इन्फेक्शन क्या है -  यूरिन इन्फेक्शन को यूटीआई भी कहते हैं जिसका मतलब होता है यूरिन ट्रैक इंफेक्शन। यानी कि जो हमारा यूरिन का मार्ग है जो कि किडनी से स्टार्ट होता है किडनी के बाद जो यूरिटल नलिया होती हैं और जो यूरिनरी ब्रेडल होता है और उसके बाद जो यूरिनरी वेसल होता है जिसके माध्यम से यूरिन बाहर निकलता है इस पूरे सिस्टम में जब कहीं पर भी इंफेक्शन हो जाता है तो उसको यूरिनरी ट्रैक इंफेक्शन बोलते हैं ! यूरिन इन्फेक्शन का कारण -  दोस्तों ! आइए हम यहां थोड़ा सा यूरिन इंफेक्शन के कारण के बारे में भी जान लेते हैं अगर हम आयुर्वेदिक भाषा में कहें तो आमतौर पर जब यूरो यूरिनरी ट्रैक में ज्यादा गर्मी हो जाएगी क्योंकि हम अक्षर आमतौर पर देखते हैं कि यूरिन इन्फेक्शन में जलन की समस्या होती है दर्द की समस्या होती है इसीलिए आयुर्वेद में कहा जाता है कि यदि आपका पित्त ज्यादा बढ़ेगा तो आपको यूटीआई की समस्या हो सकती है ! इसीलिए पित्त वर्धक भोजन जैसे मिर्च मसालेदार खाना तला हुआ तला हुआ बहुत ज्यादा तीखा, खट्टा या चाय, कॉफी, अल्कोहल स्मोकिंग यह सब यूरिन इन्फेक्शन के कारण होते हैं और कुछ लोग कम पानी पीते