Keep your kidneys happy with these lifestyle choices Water helps eliminate toxins and clears sodium from the body | किडनी रोग प्राकृतिक संसाधनों से दूर करें

 एक स्वास्थ्य रिपोर्ट के अनुसार, वर्ष 2018 में भारत में 175, 000 मरीज क्रोनिक डायलिसिस पर थे जो कि किडनी रोग के रोगियों की बढ़ती संख्या को दर्शाता है।  कई स्थितियां गुर्दे के कामकाज पर प्रतिकूल प्रभाव डालती हैं और स्वास्थ्य समस्याओं को जन्म देती हैं।


 एक मुट्ठी के आकार का अंग गुर्दा रीढ़ की हड्डी से विभाजित दोनों तरफ पसली पिंजरे के नीचे स्थित शरीर को स्वस्थ रखने के लिए कई आवश्यक कार्य करता है।  इनमें शरीर से विषाक्त पदार्थों को निकालना, विटामिन डी को सक्रिय करना, रक्तचाप, पानी को नियंत्रित और संतुलित करना और इलेक्ट्रोलाइट्स को बनाए रखना शामिल है।

 अपनी किडनी को स्वस्थ रखने के लिए आप किस प्रकार अनुसरण कर सकते हैं, यह दिखाने के लिए यहां एक छोटी सी मार्गदर्शिका दी गई है-

 हाइड्रेटेड रहें :  पानी का नियमित सेवन आपकी सेहत के लिए जादू की तरह काम करता है।  पानी विषाक्त पदार्थों को खत्म करने में मदद करता है और शरीर से सोडियम को साफ करता है, इससे शरीर को किसी भी प्रकार की पुरानी बीमारी से दूर रहने में मदद मिलती है।  पानी का सही सेवन प्रत्येक व्यक्ति और जीवनशैली, व्यायाम दिनचर्या, खपत, जलवायु, स्तनपान, गर्भावस्था जैसे कारकों पर निर्भर करता है।  विशेषज्ञ गुर्दे से संबंधित जटिलताओं को रोकने के लिए सभी को पर्याप्त मात्रा में पानी पीने की सलाह देते हैं।

 खुद को फिट रखें :  फिट रहने के लिए कई एक्सरसाइज करना या मैराथन दौड़ना जरूरी नहीं है।  एक साधारण व्यायाम जैसे चलना, नृत्य करना, दौड़ना या साइकिल चलाना आपके संपूर्ण स्वास्थ्य को स्वस्थ रख सकता है।  इतना ही नहीं, नियमित व्यायाम भी रक्तचाप के स्तर को बनाए रखने में मदद करता है और हृदय स्वास्थ्य को बढ़ावा देता है जो कि गुर्दे की भलाई सुनिश्चित करता है।

 रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करें :  मधुमेह से पीड़ित लोग या ऐसी स्थिति जिसके परिणामस्वरूप पीसीओएस जैसे रक्त शर्करा का स्तर बढ़ जाता है, गुर्दे की क्षति हो सकती है।  जब शरीर रक्त में मौजूद ग्लूकोज का सही तरीके से उपयोग नहीं कर पाता है, तो यह किडनी को अधिक मेहनत करने के लिए मजबूर करता है।  यदि इसे ठीक नहीं किया जाता है, तो यह गुर्दे की विफलता का परिणाम हो सकता है।  इसके अलावा, रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने से आगे की क्षति को रोकने और स्थिति को नियंत्रित करने में मदद मिल सकती है।

 स्वस्थ वजन बनाए रखें :  प्रसंस्कृत भोजन धीरे-धीरे गुर्दे को नुकसान पहुंचाता है और इसके परिणामस्वरूप विभिन्न बीमारियां हो सकती हैं।  फूलगोभी, ब्लूबेरी, मछली, साबुत अनाज और कई अन्य प्राकृतिक सामग्री से बने कम सोडियम स्तर वाले भोजन का चयन करें।  मोटापे से ग्रस्त व्यक्तियों को उच्च रक्तचाप और मधुमेह जैसी मोटापे से संबंधित स्थितियों के कारण होने वाली स्वास्थ्य स्थितियों के कारण गुर्दे की बीमारी विकसित होने का खतरा होता है।

 धूम्रपान से बचें :  धूम्रपान रक्त वाहिकाओं को नुकसान पहुंचाता है जिससे किडनी और शरीर के अन्य हिस्सों में रक्त के प्रवाह की गति धीमी हो जाती है।  यदि यह स्थिति लंबे समय तक रहती है, तो यह गुर्दे की विभिन्न समस्याओं का कारण बन सकती है।

 स्वस्थ आदतों को अपनाना हमेशा हमारे हाथ में होता है।  संयम और स्वस्थ जीवन शैली से सभी स्थितियों को नियंत्रित किया जा सकता है।  ऊपर बताई गई स्वस्थ आदतों को आजमाएं और हमें अपने अनुभव के बारे में कमेंट सेक्शन में बताएं।

Previous Post Next Post